ये हैं Gujarat की पहली Transwoman Doctor, बच्चे के लिए फ्रीज करवाया Semen, अब बनेंगी मां

गुजरात (Gujarat) की रहने वाली डॉ.जेसनूर दायरा (Dr.Jesnoor Dayara) ने रूस से एमबीबीएस की डिग्री हासिल की है. वे एक ट्रांसवुमन (Transwoman) हैं और अपने सीमन को फ्रीज (Semen Freeze) करवा चुकी हैं. अब वे अपना जेंडर बदलवाकर (Gender Change) महिला बनकर रहना चाहती हैं. इस तरह से वे अपने बच्चे की मां और पिता, दोनों कहलाएंगी.

ये हैं Gujarat की पहली Transwoman Doctor, बच्चे के लिए फ्रीज करवाया Semen, अब बनेंगी मां
गुजरात की पहली ट्रांसजेंडर

नई दिल्ली: गुजरात (Gujarat) में रहने वाली डॉ.जेसनूर दायरा (Dr. Jesnoor Dayara) एक ट्रांसवुमन (Transwoman) हैं. उन्होंने हाल ही में रूस (Russia) की एक यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस (MBBS) की डिग्री ली है. उनका जन्म पुरुष के रूप में हुआ था लेकिन मन से वे खुद को महिला मानती हैं और उसी हिसाब से रहना भी चाहती हैं. उन्होंने अपनी यह चाहत कभी भी अपने घरवालों को नहीं बताई थी. लेकिन अब उन्हें इस बात को स्वीकारने में कोई संकोच नहीं है. अब वे अपना जेंडर भी बदलवाना (Gender Change) चाहती हैं.

बचपन से ही था इस बात का अहसास

भारत ही क्या, दुनिया के किसी भी कोने में ट्रांसजेंडर्स (Transgender) को अब भी अपना वर्चस्व साबित करने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है. ट्रांसमैन (Transman) हो या ट्रांसवुमन (Transwoman), इस बात को स्वीकर पाना आसान नहीं होता है. गुजरात की पहली ट्रांसवुमन डॉक्टर (First Transwoman Doctor) जेसनूर दायरा का हाल भी कुछ ऐसा ही है. उन्हें बचपन से अहसास था कि उनका सिर्फ शरीर ही पुरुष का है, जबकि उनकी सोच और व्यवहार महिलाओं की तरह है.

लेकिन वे इस बात को किसी से शेयर करके घरवालों को परेशान नहीं करना चाहती थीं और इसीलिए सालों तक चुप भी रहीं. हालांकि, रूस (Russia) में पढ़ाई के दौरान उन्हें अहसास हुआ कि वे इस बात को दुनिया से साझा कर सकती हैं.

यह भी पढ़ें- देखिए, पिता ने कैसे जुगाड़ से बनाई बेटी की चोटी, लोगों ने कहा- Men Will Be Men

जारी है अपनी शर्तों पर जीने का संघर्ष

डॉ. जेसनूर दायरा (Dr.Jesnoor Dayara) ने अपने सच को स्वीकार लिया है और वे उसी के साथ जीना चाहती हैं. अपनी हिम्मत की मिसाल कायम करते हुए अब उन्होंने अपने करीबियों को इस सच से रूबरू करवा दिया है. खुशी की बात तो यह है कि उन्हें परिवार और समाज का समर्थन भी मिलने लगा है. अब वे एक नई पहचान के साथ जीना चाहती हैं लेकिन उससे पहले उन्होंने कुछ ऐसा किया है, जिसे कर पाने की हिम्मत हर कोई नहीं जुटा पाता है.

यह भी पढ़ें- Viral Video: साड़ी और धोती पहने Couple ने Dance करते हुए लिया Skiing का मजा, Social Media र मच गई धूम

बच्चे को देना चाहती हैं मां-बाप का प्यार

हर किसी की तरह डॉ. जेसनूर दायरा भी अपने बच्चे का पालन-पोषण करना चाहती हैं. वे साल के आखिरी तक अपना सेक्स चेंज (Sex Change) करवाकर पूरी तरह से महिला बनने के लिए तैयार हैं. लेकिन उससे पहले उन्होंने अपना सीमन फ्रीज (Semen Freeze) करवा दिया है. इससे बच्चा जैविक तौर पर उन्हीं का होगा क्योंकि पिता के तौर पर यह उनके सीमन (Semen) में मौजूद स्पर्म (Sperm) से ही जन्म लेगा.

इस स्पर्म का डोनर एग (Sperm Donor Egg) के साथ मिलान कराकर सरोगेट मां (Surrogate Mother) के गर्भ में प्लांट कर दिया जाएगा. इससे दायरा अपने बच्चे की मां और पिता, दोनों बन जाएंगी.

यह भी पढ़ें- Social Media पर वायरल हुआ UP Police का ट्वीट, अब Late Night Pawri की तो मिलेगी सजा

VIDEO

सरोगेसी के लिए जरूरी है विकल्प

दायरा की जिंदगी के बारे में लिखना और सोचना बेशक आसान लग रहा हो लेकिन उनकी राह बहुत कठिन है. अपने ही बच्चे के जन्म के लिए उन्हें कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ सकती है. दरअसल, भारत में सरोगेसी विधेयक (2019) (Surrogacy Bill 2019) के तहत कोई अविवाहित पुरुष, एलजीबीटी कपल (LGBT Couple) या लिव इन (Live In Relationship) में रहने वाले लोग सरोगेसी (Surrogacy) की मदद से मां-बाप नहीं बन सकते हैं.

हालांकि अभी इसे राज्‍यसभा और राष्‍ट्रपति की मंजूरी मिलनी बाकी है. लेकिन दायरा इन बातों से परेशान नहीं हैं. सरोगेसी के लिए वे दुनिया के अन्य देशों से विकल्प खोजने के लिए भी तैयार हैं.

दायरा तो अपनी जिंदगी को लेकर स्पष्ट हैं लेकिन वे चाहती हैं कि भारत में भी कुछ सहज कानून बन सकें, जिनकी मदद से उनके जैसे लोग माता-पिता बनने की अपनी ख्वाहिश को आसानी से पूरा कर सकें.

ऐसी प्रेरक खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.