खतरे में आया चीन का पोर्क उद्योग, अर्थव्यवस्था को हो सकता है करोड़ों का नुकसान

 चीन में अफ्रीकी स्वाइन फीवर नामक बीमारी का एक और मामला सामने आया है जो देश के महत्वपूर्ण सूअर मांस उद्योग के लिए खतरा बन गया है.

खतरे में आया चीन का पोर्क उद्योग, अर्थव्यवस्था को हो सकता है करोड़ों का नुकसान
इस बीमारी के बारे में पहली बार अगस्त में पता चला था, इस बीमारी के कारण चीन में अब तक 10 लाख से अधिक सूअरों की मौत हो चुकी है.

बीजिंग : चीन में अफ्रीकी स्वाइन फीवर नामक बीमारी का एक और मामला सामने आया है जो देश के महत्वपूर्ण सूअर मांस उद्योग के लिए खतरा बन गया है. कृषि और ग्रामीण मामलों के मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि देश के मध्य प्रांत हुनान के योंगझो के एक फार्म में इस बीमारी का पता लगा है, जहां 4,600 सूअर रखे गये हैं.

171 सूअरों की हो चुकी है मौत
हालांकि, उन सूअरों में से 171 की मृत्यु हो चुकी है और 270 बीमार पाए गए हैं. सरकारी नियमों के मुताबिक, किसी प्रभावित फार्म के सभी सूअरों को वहां से हटा दिया जाना चाहिए या उन्हें खत्म कर देना चाहिए और उस क्षेत्र को संक्रमणमुक्त बनाये जाने तक उसे खाली छोड़ देना चाहिए. चीन दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता के सूअर का मांस है, परंपरागत रूप से है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय पोर्क व्यापार में भागीदारी सीमित था. अगर बीमारी के कारण चीन के सूअर मांस के उद्योग पर  बैन लगता है तो इससे देश को काफी नुकसान हो सकता है.  

अब तक चीन 10 लाख सूअरों की मौत
इस बीमारी के बारे में पहली बार अगस्त में पता चला था, इस बीमारी के कारण चीन में अब तक 10 लाख से अधिक सूअरों की मौत हो चुकी है, जिसके चलते चीन में सूअरों के आयात-निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. इसकी वजह से चीन में सूअर मांस की आपूर्ति बाधित हो गई है. अफ्रीकी स्वाइन फीवर मनुष्यों को प्रभावित नहीं करता लेकिन सूअरों के लिए जानलेवा होता है, जिसमें संक्रमण बेहद तेजी से फैलता है.