कोरोना: चीन वैक्‍सीन बनाने के लिए ट्रायल दूसरे देश में क्‍यों कर रहा?

चीन ने ऐलान किया है कि दिसंबर महीने के अंत तक कोरोना वैक्सीन मार्केट में आम लोगों के लिए उपलब्ध होगा.

कोरोना: चीन वैक्‍सीन बनाने के लिए ट्रायल दूसरे देश में क्‍यों कर रहा?
प्रतीकात्मक फोटो

बीजिंग: चीन (China) के मेडिसिन ग्रुप साइनो फार्म के बोर्ड अध्यक्ष ल्यू चिंग चन ने शुक्रवार को एक इंटरव्यू में बताया कि चीन के कोरोना वायरस (Coronavirus) वैक्सीन का तीसरा क्लीनिकल ट्रायल पेरू में होने वाला है. पेरू सरकार ने चीन को परीक्षण के लिए मंजूरी दे दी है. चीन पेरू की यूनिवर्सिटी की मदद से तीसरे चरण का परीक्षण करेगा.

ल्यू चिंग चन ने कहा कि चीन में कोविड-19 महामारी के नियंत्रण में बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है इसीलिए स्वदेश में टीके के तीसरे चरण का परीक्षण करना असंभव हो गया था. साइनो फार्म ने इस अप्रैल से अंतरराष्‍ट्रीय क्लीनिकल परीक्षण सहयोग शुरू किया. पहले उन्होंने यूएई के साथ सहयोग किया था, जो बहुत सफल रहा.

ल्यू चिंग चन ने बताया कि साइनो फार्म के बीजिंग और वुहान में दो रिसर्च और प्रोडक्शन सेंटर हैं. वो बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन के लिए तैयार हो चुके हैं. वो एक साल में 20 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की सप्लाई को सुनिश्चित कर सकेंगे.

ल्यू चिंग चन ने बताया कि क्लीनिकल परीक्षण के परिणामों से पता चला है कि सबसे अच्छे परिणाम के लिए दो टीके लगाने की जरूरत है. दोनों के बीच 28 दिन का अंतराल होगा. ल्यू चिंग चन इससे पहले कई बार कह चुके हैं कि इस साल दिसंबर महीने के अंत तक चीन का कोरोना वैक्सीन मार्केट में आम लोगों के लिए उपलब्ध होगा.

VIDEO

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.