Pak Army Chief: मुनीर के आर्मी प्रमुख बनते ही पाक सेना में हाईवोल्टेज ड्रामा, इस बड़े जनरल ने मांगा रिटायरमेंट
topStories1hindi1458177

Pak Army Chief: मुनीर के आर्मी प्रमुख बनते ही पाक सेना में हाईवोल्टेज ड्रामा, इस बड़े जनरल ने मांगा रिटायरमेंट

Pak New Army Chief Asim Munir: पाक मीडिया की रिपोर्ट की मानें तो रिटायरमेंट मांगने वाले जनरल चीफ ऑफ जनरल स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल अजहर अब्बास हैं. अजहर आर्मी चीफ चुनने के लिए शॉर्टलिस्ट किए गए 6 नामों में शामिल थे. लेकिन यह रेस में काफी पीछे रह गए. 

Pak Army Chief: मुनीर के आर्मी प्रमुख बनते ही पाक सेना में हाईवोल्टेज ड्रामा, इस बड़े जनरल ने मांगा रिटायरमेंट

Pakistan New Army Chief Appointment: पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने नए आर्मी चीफ के लिए लेफ्टिनेंट जनरल आसिम मुनीर के नाम को मंजूरी दे दी है. इसी के साथ ही वह अब नए सेना प्रमुख बन गए हैं. लेकिन उनके आर्मी चीफ बनते ही पाक सेना में खूब हलचल होने लगी है. रिपोर्ट के मुताबिक, मुनीर के चीफ बनते ही एक टॉप लेवल के जनरल ने समय से पहले रिटायरमेंट तक मांग लिया है. कहा जा रहा है कि ऐसे कई और अफसर हैं जो मुनीर के चीफ बनने से खुश नहीं हैं और सेना छोड़ना चाहते हैं.

आर्मी चीफ की रेस में खुद भी थे शामिल

पाक मीडिया की रिपोर्ट की मानें तो रिटायरमेंट मांगने वाले जनरल चीफ ऑफ जनरल स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल अजहर अब्बास हैं. अजहर आर्मी चीफ चुनने के लिए शॉर्टलिस्ट किए गए 6 नामों में शामिल थे. लेकिन यह रेस में काफी पीछे रह गए. शहबाज शरीफ सरकार ने जहां मुनीर को आर्मी चीफ नियुक्त किया वहीं जनरल साहिर शमशाद मिर्जा को अगला सीजेसीएससी बनाया है. बता दें कि लेफ्टिनेंट जनरल अजहर अब्बास मौजूदा शीर्ष सैन्य अधिकारियों में से एक हैं. उन्हें पूरा भरोसा था कि उन्हें नया सेना प्रमुख बनाया जाएगा, लेकिन नाम कटने के बाद से वह काफी नाराज बताए जा रहे हैं.

कई महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं तैनात

अगर जनरल अब्बास के सफर की बात करें तो पाकिस्तान सैन्य अकैडमी से निकलने के बाद उन्हें 1987 में 41 बलूच रेजिमेंट में कमीशन किया गया था. वर्तमान में वह जनरल स्टाफ के हेड हैं. उनका मौजूदा पद अभी सीजीएस का है. इस जिम्मेदारी से पहले वह रावलपिंडी में एक्स कोर के प्रमुख भी रह चुके हैं. इस पोस्ट पर रहते हुए भारत और पाकिस्तान सेना के बीच 2003 में एलओसी पर संघर्ष विराम समझौता हुआ था. लेफ्टिनेंट जनरल अब्बास  मुरी स्थित 12 इंफेट्री डिवीजन के मुखिया भी रह चुके हैं. यहां भी उन्होंने अपनी जिम्मेदारी को अच्छे से निभाया था. तब उनके पास कश्मीर की भी जिम्मेदारी थी.

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi, अब किसी और की जरूरत नहीं

Trending news