close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Sawan 2019: पितृदोष से चाहिए मुक्ति, तो सावन में आजमाएं ये अचूक उपाय

पितृदोष भी एक ऐसा दोष है, जिसके होने से व्यक्ति को जन्मभर दुख भोगने पड़ते हैं. पितृदोष होने पर बनते हुए काम बिगड़ जाते हैं और पारिवारिक समस्याएं भी बढ़ने लगती हैं.

Sawan 2019: पितृदोष से चाहिए मुक्ति, तो सावन में आजमाएं ये अचूक उपाय
पितृदोष के चलते व्यक्ति को हमेशा आर्थिक और मानसिक परेशानी बनी रहती है.
Play

नई दिल्लीः कहते हैं सावन माह में भगवान शिव अपने श्रद्धालुओं पर विशेष कृपा बरसाते हैं और इस दौरान अगर व्यक्ति कोई भी काम करता है तो महादेव अपने भक्तों को उस कार्य में सफलता जरूर देते हैं. वहीं सावन माह में भगवान शिव अपने भक्तों को हर तरह के दोषों से भी मुक्त कर देते हैं. इन्हीं में से एक पितृदोष भी एक ऐसा दोष है, जिसके होने से व्यक्ति को जन्मभर दुख भोगने पड़ते हैं. 

दरअसल, हर व्यक्ति की कुंडली में दूसरे, चौथे, पांचवे, सातवें, नौवे और दसवें भाव में सूर्य राहु या सूर्य शनि की युति होती है, जिसे पितृदोष के नाम से जाना जाता है. यह दोष कई बार व्यक्ति के बनते काम बिगाड़ देता है. इस दौरान कई मानसिक और शारीरिक संताप व्यक्ति को तोड़ कर रख देते हैं. ऐसे में पितृदोष से मुक्ति के लिए कई तरह के उपाय किए जा सकते हैं. तो चलिए बात करते हैं पितृदोष के बारे में-

देखें लाइव टीवी

Sawan 2019: सावन में मंगलवार को रखें मंगला गौरी व्रत, मिलता है अखंड सौभाग्य का वरदान

पितृदोष से होने वाले नुकसान-
- पितृदोष के चलते व्यक्ति को हमेशा आर्थिक और मानसिक परेशानी बनी रहती है.
- पारिवारिक परेशानियां भी पितृदोष की ही वजह से हो सकती हैं. पितृदोष के चलते परिवार में संतुलन नहीं बैठ पाता.
- छोटे से छोटे निर्णय लेने में कठिनाई होती है.
- संतान प्राप्ति में बाधा उत्पन्न होना.
- परीक्षा, साक्षात्कार और नौकरी में वृद्धि का ना होना भी पितृदोष के ही लक्षण हैं.

अमरनाथ यात्रा: 24 दिनों में 3 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने किए बाबा बर्फानी के दर्शन, टूटा 4 साल का रिकॉर्ड

पितृदोष से मुक्ति के लिए सावन में करें उपाय-
- पितृदोष से मुक्ति के लिए अमावस्या पर अपने पितरों के नाम से दान करें. दान में आप कपड़े, भोजन और अपने सामार्थ्य अनुसार जरूरत की चीजें दान कर सकते हैं.
- गुरुवार और शनिवार को पीपल की जड़ पर जल अर्पित करें.
- प्रत्येक रविवार को सूर्योदय के समय सूर्य भगवान को तांबे के लोटे में शक्कर, लाल फूल और रोली डालकर जल अर्पित करें.
- दिन की शुरुआत करने से पहले अपने बड़ों का आशीर्वाद जरूर लें.