टिम पैन की ‘मेहरबानी’ से बच गया लारा का रिकॉर्ड, कप्तान ने ही छीना वॉर्नर से यह मौका, Troll हुए

Australia vs Pakistan: 33 साल के डेविड वॉर्नर ने पाकिस्तान के खिलाफ दूसरे टेस्ट में 335 रन की नाबाद पारी खेली. 

टिम पैन की ‘मेहरबानी’ से बच गया लारा का रिकॉर्ड, कप्तान ने ही छीना वॉर्नर से यह मौका, Troll हुए
डेविड वॉर्नर के पास ब्रायन लारा के 400 रन का रिकॉर्ड तोड़ने का मौका था, लेकिन वे ऐसा नहीं कर सके. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया के डेविड वॉर्नर ने पाकिस्तान के खिलाफ (Pakistan vs Australia) दूसरे टेस्ट में तिहरा शतक जमाकर कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए. उन्होंने एक ही झटके में डॉन ब्रैडमैन, मार्क टेलर, माइकल क्लार्क के रिकॉर्ड तोड़ डाले. उनके पास टेस्ट इतिहास की सबसे बड़ी पारी खेलने का सुनहरा मौका भी था. लेकिन कप्तान टिम पैन के एक निर्णय ने डेविड वार्नर (David Warner) के अरमानों पर पानी फेर दिया. इस निर्णय के बाद टिम पैन (Tim Paine) सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गए. उनके इस निर्णय को लेकर मजेदार मीम्स बनाए जा रहे हैं. 

ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान (Australia vs Pakistan) के बीच दूसरा टेस्ट एडिलेड में खेला जा रहा है. डेविड वॉर्नर ने इस मैच में 335 रन की बेमिसाल पारी खेली और अंत तक आउट नहीं हुए. उन्होंने इस पारी में 418 गेंदों का सामना किया और 39 चौके व एक छक्का लगाया. जब ऑस्ट्रेलिया का स्कोर तीन विकेट पर 589 रन था, तब कप्तान टिम पैन ने पारी घोषित कर दी. इस तरह वॉर्नर को 335 के स्कोर पर नाबाद रहते हुए पैवेलियन लौटना पड़ा. 

यह भी पढ़ें: AUSvsPAK: स्टीव स्मिथ ने तोड़ा 73 साल पुराना रिकॉर्ड, सबसे तेजी से 7000 रन पूरे किए

डेविड वार्नर ने अपनी पारी के दौरान डॉन ब्रैडमैन (334), मार्क टेलर (334*) और माइकल क्लार्क (329*) जैसे ऑस्ट्रेलियाई दिग्गजों के सबसे बड़े स्कोर को भी पीछे छोड़ दिया है. जब वॉर्नर खेल रहे थे तब यह कहा जा रहा था कि वे ब्रायन लारा (Brian Lara) के 400 रन बनाने का रिकॉर्ड भी तोड़ देंगे. ब्रायन लारा टेस्ट इतिहास में 400 रन बनाने वाले एकमात्र बल्लेबाज हैं. 

डेविड वॉर्नर ने अपनी पारी के दौरान 80.14 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए. यानी, उन्होंने औसतन हर 100 गेंद पर 80 रन बनाए. जब पारी घोषित की गई तब वॉर्नर 400 रन से 65 रन दूर थे. वे जिस रफ्तार से रन बना रहे थे, उस हिसाब से करीब 70-80 गेंदों पर 65 रन बना सकते थे. लेकिन कप्तान टिम पैन ने उन्हें यह मौका नहीं दिया.

यह भी पढ़ें: डेविस कप: भारत ने पाकिस्तान को सिखाई टेनिस की ABCD, दर्ज की एकतरफा जीत

जब पारी घोषित की गई तब ऑस्ट्रेलिया इस मैच में बेहद मजबूत स्थिति में था. दिन में काफी वक्त का खेल बाकी था. अगर ऑस्ट्रेलिया 20 ओवर और बैटिंग कर लेता तो भी वह पाकिस्तान को दूसरे दिन बैटिंग करा सकता था. इसीलिए टिम पैन के पारी घोषित करने के निर्णय की आलोचना हो रही है. 

एक यूजर ने ट्वीट किया, ‘टिम पैन ने एक खिलाड़ी की जिंदगी का सबसे बड़ा मौका छीन लिया. यदि वार्नर 10-11 ओवर और बैटिंग करते तो ब्रायन लारा का रिकॉर्ड तोड़ सकते थे.’