BCCI: लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडगे होंगे सीओए के तीसरे सदस्य, डीके जैन पहले लोकपाल बने

बीसीसीआई कामकाज संभालने वाली प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष पूर्व सीएजी विनोद राय हैं. पूर्व क्रिकेटर डायना एडुलजी इसकी सदस्य हैं. 

BCCI: लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडगे होंगे सीओए के तीसरे सदस्य, डीके जैन पहले लोकपाल बने

नई दिल्ली: लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडगे बीसीसीआई कामकाज संभालने वाली प्रशासकों की समिति (सीओए) के तीसरे सदस्य होंगे. सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को उन्हें उनकी नियुक्ति का फैसला दिया. इस समिति के अध्यक्ष पूर्व सीएजी विनोद राय हैं. पूर्व क्रिकेटर डायना एडुलजी इसकी सदस्य हैं. रामचंद्र गुहा भी इसके सदस्य थे. लेकिन उन्होंने पिछले साल इस्तीफा दे दिया था. तब से इस समिति में सिर्फ सिर्फ विनोद राय और एडुलजी ही थीं. 

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से जुड़े मामलों में कई अहम फैसले दिए. कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज डीके. जैन को बीसीसीआई का पहला लोकपाल नियुक्त किया. वे अन्य मसलों के साथ हार्दिक पांड्या और केएल राहुल के अनुशासनहीनता मामले की भी सुनवाई करेंगे. 

सुप्रीम कोर्ट ने इसी सुनवाई के दौरान प्रशासकों की समिति (सीओए) पर होने वाले मतभेद पर भी चर्चा की और इसका तीसरा सदस्य भी नियुक्त किया. सुप्रीम कोर्ट की दो सदस्यीय बेंच ने कहा, ‘हमने कुछ न्यूज रिपोर्ट देखी हैं. ऐसा लगता है कि सीओए प्रमुख (विनोद राय) और सदस्य (एडुलजी) के बीच कुछ मतभेद हैं. उन्हें कहिए कि वे अपने मतभेद सार्वजनिक स्तर पर मत ले जाएं.’ सुप्रीम कोर्ट ने इसके बाद लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडगे को सीओए का तीसरा सदस्य नियुक्त करने का आदेश दिया. 

लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडगे ने सीओए का तीसरा सदस्य नियुक्त किए जाने के बाद कहा, ‘‘मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं कि मुझे सुप्रीम कोर्ट ने सीओए सदस्य के तौर पर काम करने का मौका दिया है. मैं उम्मीद करता हूं कि मुझसे जो उम्मीद की जा रही है, मैं उस पर खरा उतरूं. मैं भारतीय सेना में भी खेल गतिविधियों में सक्रिय रहा हूं. लेकिन हां, यह खेल प्रशासन में मेरा पहला मौका है.’ थोडगे के नई दिल्ली में शुक्रवार को होने वाली सीओए की बैठक में शिरकत करने की उम्मीद है. 

सुप्रीम कोर्ट की इस सुनवाई के दौरान बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर को भी राहत मिल गई. सुप्रीम कोर्ट ने कुछ मामलों में से अनुराग को हटाने की अपील को तो खारिज कर दिया, लेकिन उनकी अदालत की अवमानना करने पर दी गई माफी को मंजूर कर लिया. 

(इनपुट: आईएएनएस/भाषा)