ENGvsWI: इंग्लिश कप्तान जो रूट ने क्यों कहा, गे होने में कोई बुराई नहीं...

England vs West Indies: इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने कहा, ‘शैनन गैब्रियल को मैदान पर दिए गए बयानों पर पछतावा होगा.’

ENGvsWI: इंग्लिश कप्तान जो रूट ने क्यों कहा, गे होने में कोई बुराई नहीं...
इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने विंडीज के खिलाफ तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन 111 रन की नाबाद पारी खेली. (फाइल फोटो)

ग्रास आइल (सेंट लूसिया): क्रिकेट के मैदान पर कई बार कुछ ऐसी बातें हो जाती हैं, जो ना सिर्फ क्रिकेटरों, बल्कि टीमों के बीच भी कड़वाहट पैदा कर देती हैं. इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच खेले जा रहे तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन भी कुछ ऐसा ही हुआ. इस दिन इंग्लिश कप्तान जो रूट और कैरेबियाई गेंदबाज शैनन गैब्रियल के बीच कुछ कहासुनी हो गई. दोनों की बातचीत से यह तो अंदाजा लग गया कि यह स्लेजिंग का मामला है, जो सीमा से आगे चला गया था. लेकिन दोनों के बीच असल में क्या बात हुई, यह पता नहीं चल पाया है. लेेेेकिन इस कारण इस मसले पर कयासबाजी जरूर शुरू हो गई है. 

दरअसल, पहले दो मैच हारने वाला इंग्लैंड तीसरे टेस्ट में जीत की ओर बढ़ रहा है. इंग्लैंड ने मेजबान विंडीज पर 448 रन की बढ़त ले ली है और मैच में अभी दो दिन बाकी हैं. इंग्लिश कप्तान जो रूट ने मैच के तीसरे दिन 111 रन की नाबाद पारी खेली. उन्होंने जो डेनली (69) के साथ तीसरे विकेट के लिए 74 रन की साझेदारी की. विंडीज के गेंदबाज शैनन गैब्रियल से उनकी बहस भी इसी साझेदारी के दौरान हुई. 

जो रूट और गैब्रियल की बातचीत का कुछ हिस्सा स्टंप माइक्रोफोन पर रिकॉर्ड हो गया. इसके मुताबिक ओवर के बीच में जो रूट ने कहा, ‘इसका इस्तेमाल बेइज्जती करने के लिए नहीं कीजिए. समलैंगिक (गे) होने में किसी तरह की बुराई नहीं है.’ वेबसाइट ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो’ की रिपोर्ट के मुताबिक, यह रूट की प्रतिक्रिया थी. इससे पहले गैब्रिएल ने जो कहा था वह माइक में नहीं आया था. हालांकि, अंपायर ने उनसे इस मसले पर बात की थी.  

जो रूट इस वाकये की शिकायत करने के मूड़ में नहीं हैं. उन्होंने तीसरे दिन के खेल के बाद कहा कि इस तरह की बातें मैदान पर होती रहती हैं. इन्हें मैदान पर ही रहना चाहिए. कई बार लोग मैदान पर कुछ ऐसा कह जाते हैं जिन पर उन्हें बाद में पछतावा होता है, लेकिन यह सब बातें मैदान पर ही रहनी चाहिए.’

इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान ने कहा, ‘यह टेस्ट क्रिकेट है और वे भावुक इंसान हैं जो मैच जीतने के लिए कुछ भी कर सकते हैं. वे शानदार खिलाड़ी हैं जो मुश्किल क्रिकेट खेलते हैं और इस स्थिति में रहने का उन्हें गर्व है. यह अच्छी प्रतिस्पर्धा थी. उन्होंने सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया है और उन्हें अपने आप पर गर्व होना चाहिए.’

(इनपुट: आईएएनएस)