हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल को फटकार लगाए जाने की जरूरत थी: रवि शास्त्री

इन दोनों ने ‘कॉफी विद करण’ शो में महिला विरोधी टिप्पणियां की थीं.

हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल को फटकार लगाए जाने की जरूरत थी: रवि शास्त्री
(फोटो साभार: सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल के टीवी शो पर महिलाओं के खिलाफ की गयी टिप्पणी का जिक्र करते हुए कहा कि इन दोनों को फटकार लगाये जाने की जरूरत थी. इन दोनों ने छह जनवरी को प्रसारित ‘कॉफी विद करण’ शो में महिला विरोधी टिप्पणियां की थीं.

शास्त्री ने एक अंग्रेजी चैनल से कहा, ‘‘पंड्या और राहुल को फटकार लगाये जाने की जरूरत थी. जो कुछ भी हुआ, उससे उन्होंने सबक सीखा होगा जो अच्छा है. ’’

उन्होंने कहा, ‘‘आप गलतियां कर बैठते हो और कभी कभार आपको सजा भी मिलती है लेकिन दुनिया यहीं खत्म नहीं हो जाती. इस तरह के अनुभव से खिलाड़ियों को मजबूत वापसी करने में मदद मिलती है. ’’

हार्दिक-राहुल मामले को लोकपाल को सौंपेगा सीओए
बीसीसीआई हार्दिक पांड्या-लोकेश राहुल के मामले को लोकपाल डी.के. जैन को देने को तैयार है. सर्वोच्च अदालत द्वारा गठित की गई प्रशासकों की समिति (COA) गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी में होने वाली बैठक में आधिकारिक तौर पर इस मुद्दे को जैन को सौंप देगी. बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस से बताया कि सीओए बैठक में इस मामले को लोकपाल को सौंप देगी.

बीसीसीआई की यह बैठक बेहद अहम मानी जा रही है क्योंकि हाल ही में आईसीसी ने अपनी तिमाही बैठक में बोर्ड की उस अपील को खारिज कर दिया था, जिसमें उसने अंतर्राष्ट्रीय परिषद से आतंक को पनाह देने वाले देशों के खिलाफ सख्त कदम उठाने को कहा था.

क्या महिलाओं पर टिप्पणी वाले विवाद के बाद बदल गए हैं केएल राहुल, कहा- अब ऐसा हो गया हूं

अधिकारी ने कहा, "सीओए गुरुवार को दिल्ली में होने वाली बैठक में लोकपाल को यह मुद्दा सौंप देंगे. इस बैठक में आईसीसी द्वारा लिए गए फैसले पर भी चर्चा की जाएगी."

तीन सदस्यी सीओए जिसमें अध्यक्ष विनोद राय, डायना इडुल्जी और लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडगे शामिल हैं, के अलावा इस बैठक में वकील और बोर्ड अधिकारी मौजूदा होंगे जो कई अन्य अहम मुद्दों पर चर्चा करेंगे.

पांड्या और राहुल को टीवी शो कॉफी विद करण पर महिलाओं के खिलाफ की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के कारण अस्थायी प्रतिबंध झेलना पड़ा था. लोकपाल न होने के कारण सीओए ने इन दोनों पर से अस्थायी प्रतिबंध हटा लिया था.

सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश एस.ए. बोब्डे और ए.एम.साप्रे की पीठ ने 21 फरवरी को सेवानिवृत न्यायाधीश डी.के. जैन को बीसीसीआई का लोकपाल नियुक्त किया था और तत्काल प्रभाव से कार्यकाल संभालने को कहा था.

(इनपुट-भाषा)