Mushtaq Ali Trophy: कर्नाटक ने जीता देश का सबसे बड़ा टी20 टूर्नामेंट, तमिलनाडु को एक रन से हराया

Syed Mushtaq Ali Trophy 2020: कर्नाटक ने सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के फाइनल में तमिलनाडु को एक रन से हराया. 

Mushtaq Ali Trophy: कर्नाटक ने जीता देश का सबसे बड़ा टी20 टूर्नामेंट, तमिलनाडु को एक रन से हराया

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट के पावर हाउस कर्नाटक (Karnataka) ने देश का सबसे बड़ा टी20 टूर्नामेंट भी जीत लिया है. उसने रविवार को सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (Syed Mushtaq Ali Trophy) भी अपने नाम कर ली है. मनीष पांडे की टीम ने इस टी20 टूर्नामेंट के फाइनल में तमिलनाडु (Tamil Nadu) को हराया. सूरत में खेला गया यह मुकाबला बेहद रोमांचक रहा, जिसमें कर्नाटक ने एक रन से जीत दर्ज की. कर्नाटक ने पिछले साल भी यह ट्रॉफी जीती थी. 

तमिलनाडु ने रविवार को सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (Syed Mushtaq Ali Trophy 2020) के फाइनल में टॉस जीतकर पहले फील्डिंग का फैसला लिया. इस तरह कर्नाटक ने पहले बैटिंग की. उसने निर्धारित 20 ओवर में 5 विकेट पर 180 रन का स्कोर बनाया. तमिलनाडु की टीम लक्ष्य के बेहद जाकर ठिठक गई. तमिलनाडु को जीत के लिए आखिरी चार गेंद पर पांच रन चाहिए थे, लेकिन वह तीन रन ही बना सकी. 

यह भी पढ़ें: INDvsWI: फिर शुरू होगी रोहित और कोहली की रेस, राहुल-पोलार्ड के पास भी बड़ा मौका

कर्नाटक का 40 दिन के भीतर यह दूसरा बड़ा खिताब है. उसने 25 अक्टूबर को विजय हजारे ट्रॉफी भी जीती थी. इत्तफाक से विजय हजारे ट्रॉफी का फाइनल भी कर्नाटक और तमिलनाडु (Karnataka vs Tamil Nadu) के बीच खेला गया था. इसमें कर्नाटक ने 60 रन से जीत दर्ज की थी. अब उसने सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी भी जीत ली है. यह भारतीय घरेलू क्रिकेट का सबसे बड़ा टी20 टूर्नामेंट है.

कर्नाटक की ओर से फाइनल में सबसे अधिक रन कप्तान मनीष पांडे (Manish Pandey) ने बनाए. उन्होंने 45 गेंदों पर 60 रन की नाबाद पारी खेली. रोहन कदम ने 28 गेंद में 35 और देवदत्त पडिक्कल ने 23 गेंद में 32 रन बनाए. केएल राहुल ने 22 (15 गेंद) और करुण नयर ने 17 (8 गेंद) रनों का योगदान दिया. तमिलनाडु के रविचंद्रन अश्विन और मुरुगन अश्विन ने दो-दो विकेट झटके. एक विकेट वॉशिंगटन सुंदर को मिला. 

यह भी पढ़ें: सौरव गांगुली का बड़ा ऐलान- अब टीम इंडिया का चयन नहीं करेगी ‘MSK प्रसाद की टीम’ 

तमिलनाडु की टीम अच्छी बल्लेबाजी करते हुए एक समय जीत के बेहद करीब थी. उसे ट्रॉफी पर कब्जा करने के लिए आखिरी ओवर में 13 रन की जरूरत थी. कृष्णप्पा गौतम के इस ओवर की पहली दो गेंद पर रविचंद्रन अश्विन ने दो चौके लगा दिए. अब लक्ष्य पांच रन दूर था. ओवर की तीसरी गेंद पर कोई रन नहीं बना. चौथी गेंद पर अश्विन ने एक रन लिया. अब कर्नाटक को दो गेंद पर चार रन चाहिए थे. पांचवीं गेंद पर विजय शंकर दूसरा रन लेने की कोशिश में आउट हो गए. छठी गेंद पर मुरुगन अश्विन सिर्फ एक रन बना सके. 

यह भी पढ़ें: भारत का यह बल्लेबाज तोड़ सकता है लारा का 400 रन का रिकॉर्ड: वॉर्नर 

इस तरह आखिरी पलों की गलती के कारण विजय शंकर (44), बाबा अपराजित (40), वॉशिंगटन सुंदर (24), दिनेश कार्तिक (20), रविचंद्रन अश्विन (16) और शाहरुख खान (16) की पारियां बेकार चली गईं. कर्नाटक की ओर से रोनित मोरे ने सबसे अधिक दो विकेट लिए. कृष्णप्पा गौतम, श्रेयस गोपाल और जे. सुचिथ को एक-एक विकेट मिला.