close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विराट कोहली ‘डिटॉक्स यॉर ईगो’ पढ़ते दिखे, लोगों ने कसा तंज- आपके लिए जरूरी थी ये किताब

किताब का पूरा नाम है- अपने अहंकार को काबू करें: अपने जीवन में आजादी, खुशी और सफलता प्राप्त करने के 7 आसान तरीके

विराट कोहली ‘डिटॉक्स यॉर ईगो’ पढ़ते दिखे, लोगों ने कसा तंज- आपके लिए जरूरी थी ये किताब
'डिटॉक्स यॉर ईगो' किताब पढ़ते कप्तान विराट कोहली. (फाइल)

नई दिल्ली: वेस्टइंडीज के खिलाफ एंटीगा में टेस्ट मैच खेल रही भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) अपनी पहली पारी में महज 9 रन बनाकर पवेलियन लौट गए. इसी बीच स्टेडियम के ड्रेसिंग रूम की बालकनी में बैठकर कोहली स्टीवन सेल्वेस्टर की किताब 'डिटॉक्स यॉर ईगो' (अपने अहंकार को काबू करें) पढ़ते नजर आए. अब उनकी इस तस्वीर पर सोशल मीडिया यूजर्स तरह-तरह के कमेंट कर रहे हैं.

दरअसल, कप्तान कोहली को क्रिकेट के मैदान पर बेहद आक्रामक छवि वाला खिलाड़ी माना जाता है. स्टार क्रिकेटर होने के बावजूद कोहली की नाक पर गुस्सा बैठा रहता है. मैदान पर विरोधी खिलाड़ियों से भिड़ने के अलावा विराट कोहली हाल ही में उप-कप्तान रोहित शर्मा से मन-मुटाव की खबरों को लेकर सुर्खियों में रह चुके हैं. इसी बीच, इस बल्लेबाज का 'डिटोक्स यॉर ईगो' पढ़ना यूजर्स को रास आया.

एक यूजर ने ट्विटर पर लिखा, ''बहुत जरूरी किताब .. एक बहुत जरूरी व्यक्ति के लिए.''  

एक क्रिकेट फैन लिखता है, ''आखिरकार, तुम महान हो, लेकिन आपको इस किताब की जरूरत है यार.''

इसके अलावा एक और क्रिकेट यूजर ने तंज कसते हुए अपने ट्वीट में लिखा, ''डिटॉक्स यॉर ईगो... किताब रोहित शर्मा के द्वारा स्पॉन्सर की गई है.''

उधर, एक शख्स ने स्माइली के साथ लिखा है, ''कोहली को सच्चे नेतृत्व और टीम वर्क पर किताबें पढ़ना शुरू करना चाहिए.''

किताब का अंग्रेजी में पूरा नाम है- 'Detox Your Ego: 7 easy steps to achieving freedom, happiness and success in your life' है. इसके लेखक और मनोवैज्ञानिक स्टीवन एंटनी सिल्वेस्टर एक पूर्व अंग्रेजी क्रिकेटर हैं और अब ब्रिटिश साइकोलॉजी सोसायटी के चार्टर्ड मनोवैज्ञानिक और एसोसिएट फेलो हैं. सिल्वेस्टर दाएं हाथ के बल्लेबाज थे जिन्होंने बाएं हाथ के तेज-मध्यम गेंदबाजी की. उनका जन्म चोलोंट सेंट गिल्स, बकिंघमशायर में हुआ था.