close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केवल युवराज ही रहेंगे यह अवसर पाने वाले भारतीय, किसी और को नहीं मिलेगा मौका

सीओए ने कहा है कहा है कि युवराज सिंह को मिली टी20 लीग्स में खेलने की अनुमति अपवाद है.

केवल युवराज ही रहेंगे यह अवसर पाने वाले भारतीय, किसी और को नहीं मिलेगा मौका
युवराज सिंह ने हाल ही में इंटरनेशनल करियर से संन्यास लिया है. (फोटो :IANS)

नई दिल्ली: आमतौर पर यह कभी नहीं देखा जाता कि भारतीय खिलाड़ी किसी विदेश की घरेलू टी20 लीग में खेलते हों. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) अभी तक इस मामले में सख्त रहा है, लेकिन इस साल युवराज सिंह (Yuvraj Singh) को विदेशी लीग में खेलने के लिए एनओसी जारी करने से विवाद की स्थिति हो गई है. बीसीसीआई ने कनाडा में खेली जा रही ग्लोबल टी-20 लीग के लिए युवराज सिंह को अनापत्ति प्रमाण पत्र दे दिया था.

अपवाद है युवी का मामला
 इस मामले को देखकर कई पूर्व खिलाड़ियों ने राहत की सांस ली थी और उन्हें उम्मीद थी कि अन्य देशों में खेली जा रही लीगों के लिए बोर्ड उन्हें भी एनओसी दे देगा, लेकिन प्रशासको की समिति (सीओए) का कहना है कि युवराज का मामला अपवाद था, और वह किसी और को इस तरह की एनओसी नहीं देगा. सीओए के एक सदस्य ने इस बात की पुष्टि भी की है. सीओए सदस्य ने कहा, "युवराज का मामला अलग मामला है. वो अपवाद है. हम किसी और अन्य खिलाड़ी को विदेशी लीग में खेलने के लिए एनओसी नहीं देंगे. हमने इस मुद्दे पर चर्चा की है और फैसला लिया है कि इस पर कोई कार्रवाई करने की जरूरत नहीं है."

यह भी पढ़ें: युवराज सिंह ने केविन पीटरसन को किया ट्रोल, इस बार फिर मैनचेस्टर यूनाइडेट रहा वजह

सीओए के इस फैसले से बीसीसीआई हैरान
सीओए के इस फैसले ने बीसीसीआई के अधिकारियों को हैरान कर दिया है और कहा है कि फैसलों में निरंतरता होना जरूरी है और एक खिलाड़ी को एनओसी देने के बाद नीति नहीं बदलनी चाहिए.
बोर्ड के अधिकारी ने कहा, "निरंतरता नाम की भी कोई चीज होती है, लेकिन यह इस समय बोर्ड में यह साफ तौर पर देखा जा सकता है कि नहीं है. जब खिलाड़ियों और उनके करियर की बात आती है तो मनमाना रवैया नहीं चल सकता. कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो अब भारतीय टीम का हिस्सा नहीं हो सकते क्योंकि वह बोर्ड की नीति में नहीं है और ऐसे खिलाड़ी अब संन्यास के बारे में सोच रहे होंगे ताकि वह विदेशी लीगों में खेल सकें. यह अचानक से लिया गया यू-टर्न उनके लिए बेईमानी है."

बीसीसीआई संन्यास ले चुके अपने पूर्व खिलाड़ियों को विदेशी लीगों में खेलने की अनुमति देने के लिए कभी राजी नहीं होती है लेकिन सीओए ने युवराज के मामले में उसने एनओसी दे दी जो एक अपवाद है. भारत के खिलाड़ियों को केवल आईपीएल में खेलने की अनुमति है. 
(इनपुट आईएएनएस)