dear zindagi

डियर जिंदगी: शोर नहीं संकेत पर जोर!

डियर जिंदगी: शोर नहीं संकेत पर जोर!

हम असल में क्‍या चाहते हैं, उस तक बहुत कम पहुंच पाते हैं. अपनी मंजिलों से हम अक्‍सर दूसरों के आकर्षण में भटकते हैं!

Jan 23, 2019, 08:27 AM IST

Dear जिंदगी: सुसाइड के भंवर से बचे बच्‍चे की चिट्ठी!

परीक्षा का दौर आरंभ हो चुका है. प्री-बोर्ड के माध्‍यम से बोर्ड की तैयारी की बात से सहमत होना मुश्किल है. यह ऐसा है, जैसे तनाव से पहले तनाव देकर उसकी तैयारी कराना! कुछ दिन पहले हमारे मेहमान अपने दसवीं कक्षा के बच्‍चों के साथ आए. बच्‍चों के साथ मुझे संवाद का अवसर मिला. थोड़ा आश्‍चर्य हुआ कि एक सुचिंतित, सुलझे हुए दंपति के बच्‍चों पर भी तनाव के बादल मंडरा रहे थे. बच्‍चों के चेहरे पर परीक्षा का तनाव महसूस किया जा सकता था. यह दंपति न तो बच्‍चों से किसी तरह की अनावश्‍यक अपेक्षा रखते हैं, न ही उन पर कोई दबाव डालते हैं, उसके बाद भी बच्‍चों के मन पर तनाव की छाया चिंतित करने वाली है

Jan 22, 2019, 08:25 PM IST
डियर जिंदगी: विश्‍वास के भरोसे का टूटना !

डियर जिंदगी: विश्‍वास के भरोसे का टूटना !

जिंदगी का हिसाब ‘टुकड़े-टुकड़े’ में नहीं रखा जाता. इसके मायने हमेशा संपूर्णता में ग्रहण किए जाने चाहिए.

Jan 22, 2019, 10:12 AM IST
डियर जिंदगी: बच्‍चों से मत कहिए, मुझसे बुरा कोई न होगा!

डियर जिंदगी: बच्‍चों से मत कहिए, मुझसे बुरा कोई न होगा!

परीक्षा के कठिन मौसम में बच्‍चे बहुत अधिक तनाव में हैं. हमें सजग, सतर्क और आत्‍मीयता से अपनी भू‍मिका निभाने की जरूरत है. हमारा कोई भी सपना बच्‍चों के जीवन से बड़ा नहीं!

Jan 21, 2019, 08:45 AM IST

Dear ज़िंदगी: "बच्‍चे को स्‍कूल में मिलने वाले नंबर उसकी सफलता, असफलता का सही पैमाना नहीं हैं"

युवा, बच्‍चे जिन चीज़ों से सबसे अधिक परेशान दिखते हैं, उनमें अतीत, आगे का डर और हमारी सीमाएं (खुद के बारे में बनाई गई धारणा) प्रमुख हैं. इस बात को बार-बार दोहराने की जरूरत है कि बच्‍चे को स्‍कूल में मिलने वाले अंक उसकी सफलता, असफलता का सही पैमाना नहीं हैं. स्‍कूल के प्रदर्शन को पैमाना बनाने का सबसे खराब परिणाम यह है कि केवल कुछ बच्‍चे ही होशियार साबित होते हैं. हर साल स्‍कूल से निकलने वाले बच्‍चों में अधिकांश बच्‍चे इस मनोदशा के साथ निकलते हैं कि वह तो पढ़ने में कमजोर थे! ठीक नहीं थे. बहुत अच्‍छे नहीं थे! यह किसी एक स्‍कूल की बात नहीं . हर साल लाखों स्‍कूलों के बच्‍चे इस मानसिक स्थिति से गुजरते हैं. स्‍कूल बच्‍चे की दुनिया बनाने, उसमें रंग भरने की जगह बच्‍चे को अपने सपनों में रंगने की कोशिश में लगे रहते हैं! इस प्रक्रिया में कला, संगीत, खेल में रुचि रखने वाले बच्‍चे निरंतर पिछड़ते रहते हैं.

Jan 18, 2019, 03:15 PM IST
डियर जिंदगी: अगर तुम न होते!

डियर जिंदगी: अगर तुम न होते!

तलाक, लिव-इन रिलेशनशिप, सगाई के बाद शादी टूटने जैसी स्थितियों के लिए समाज अब तक तैयार नहीं है. सिनेमा में यह रंग खूब भाते हैं, लेकिन जैसे ही हमारे सामने आते हैं, हम असहज हो जाते हैं!  

Jan 18, 2019, 09:39 AM IST

Dear जिंदगी: “सही सोच का अर्थ ये नहीं कि आपका चुनाव भी सही हो”

कई बार ऐसा होता है, जब एक ही चीज़ पर मतभेद होते हुए भी बाद में हमें लगता है कि इस पर ‘दोनों’ सही हैं. कोई गलत नहीं है. मंजिल एक है, लेकिन रास्‍ते अलग. एक-दूसरे के लिए ‘जगह’ निकाल पाना इतना मुश्किल भी नहीं. मतभेद के साथ सम्‍मान की कला जिंदगी के सुख का सबसे बड़ा आधार है. ‘डियर जिंदगी’ को मिल रही प्रतिक्रिया में इन दिनों जीवन के उस पड़ाव का जिक्र ज्‍यादा हो रहा है, जिसमें कहा जा रहा है कि जब दोनों सही हों, तो क्‍या करना चाहिए! रिश्‍तों में दरार तभी नहीं आती, जब रास्‍ते अलग हों, उस समय भी आती है, जब रास्‍ते एक हों.

Jan 17, 2019, 01:10 PM IST
डियर जिंदगी: हम कैसे बदलेंगे!

डियर जिंदगी: हम कैसे बदलेंगे!

परंपरा, ‘ऐसा होता आया है’ के आधार पर जब तक हम चीज़ों को बुनते रहेंगे, वह अपने होने के अर्थ तक नहीं पहुंच सकतीं.

Jan 17, 2019, 09:39 AM IST
डियर जिंदगी: किससे डरते हैं !

डियर जिंदगी: किससे डरते हैं !

अतीत , करियर, रिश्‍ते अब तक कैसे भी रहे हों, लेकिन अब भी जो बचा है, वह अनमोल है. बची जिंदगी को सार्थक, खुशनुमा बनाना हमारे बस में है. यह हमसे कोई नहीं छीन सकता!

Jan 16, 2019, 08:20 AM IST
डियर जिंदगी: दोनों का सही होना!

डियर जिंदगी: दोनों का सही होना!

एक-दूसरे के लिए ‘जगह’ निकाल पाना इतना मुश्किल भी नहीं. मतभेद के साथ सम्‍मान की कला जिंदगी के सुख का सबसे बड़ा आधार है.

Jan 15, 2019, 09:11 AM IST
डियर जिंदगी: अतीत के धागे!

डियर जिंदगी: अतीत के धागे!

दूसरों की जिंदगी आसान बनाने में जितनी मदद कर सकते हैं, करें. क्‍योंकि अपनी जिंदगी आसान बनाने का यही सबसे सरल तरीका है.  

Jan 14, 2019, 10:11 AM IST
डियर जिंदगी : बच्‍चों की गारंटी कौन लेगा!

डियर जिंदगी : बच्‍चों की गारंटी कौन लेगा!

बच्‍चों के जन्‍म लेते ही हम किसी बड़े स्‍कूल की तलाश में जुट जाते हैं. उसके बाद प्रवेश होते ही मानते हैं कि हमारा काम पूरा हुआ.

Jan 11, 2019, 10:05 AM IST
डियर जिंदगी: सुसाइड के भंवर से बचे बच्‍चे की चिट्ठी!

डियर जिंदगी: सुसाइड के भंवर से बचे बच्‍चे की चिट्ठी!

जिंदगी किसी भी अनुभव से बड़ी है. जिंदगी है तो अनुभव हैं. इसलिए जिंदगी का साथ देना है. हर मुश्किल में. इसे अकेला नहीं छोड़ना. ‘डियर जिंदगी’ जीवन के प्रति शुभकामना है. इसे हमेशा अपने पास महसूस कीजिए!

Jan 10, 2019, 09:21 AM IST
डियर जिंदगी: साथ रहते हुए ‘अकेले’ की स्‍वतंत्रता!

डियर जिंदगी: साथ रहते हुए ‘अकेले’ की स्‍वतंत्रता!

विवाह को लेकर वर पक्ष का रवैया अब तक नहीं बदला. वर पक्ष की 'श्रेष्‍ठता ग्रंथि‍' जब तक नहीं बदलेगी, इस रिश्‍ते में ऊर्जा, स्‍नेह से भरी कोपलें नहीं खिलेंगी.

Jan 9, 2019, 10:11 AM IST
डियर जिंदगी: स्‍वयं को दूसरे की सजा कब तक!

डियर जिंदगी: स्‍वयं को दूसरे की सजा कब तक!

जिंदगी में सब कुछ नियंत्रण में होना संभव नहीं. हमें हर चीज के लिए दूसरों को दोष देने, खुद को कोसते रहने की जगह नई ‘कोपल’ की तरह मुश्किलों के बाद भी खिलने की कोशिश करनी चाहिए.  

Jan 8, 2019, 08:47 AM IST
डियर जिंदगी: जो बिल्‍कुल मेरा अपना है!

डियर जिंदगी: जो बिल्‍कुल मेरा अपना है!

सबकी खूबियों का सम्‍मान कीजिए, लेकिन अपने को भी बचाए रखिए. यह आपका होना, आपके अस्तित्‍व के लिए सबसे जरूरी है.

Jan 7, 2019, 09:22 AM IST
डियर जिंदगी: असफल बच्‍चे के साथ!

डियर जिंदगी: असफल बच्‍चे के साथ!

बच्‍चों की परवरिश में अपेक्षा जितनी कम होगी, वह अपने नैसर्गिक गुण के उतने अधिक नजदीक होंगे. तनाव, डिप्रेशन उन्‍हें कम से कम छू पाएंगे!

Jan 4, 2019, 10:17 AM IST
डियर जिंदगी : बच्‍चों को अपने जैसा नहीं बनाना !

डियर जिंदगी : बच्‍चों को अपने जैसा नहीं बनाना !

जब त‍क हम बच्‍चों को संपत्ति की तरह प्रेम करना नहीं छोड़ते. हम उनके साथ जीवन का आनंद नहीं ले सकते.

Jan 3, 2019, 09:28 AM IST
डियर जिंदगी : क्‍या कहना है, बच्‍चों से!

डियर जिंदगी : क्‍या कहना है, बच्‍चों से!

बच्‍चे केवल स्‍कूल में ही असफल होते हैं! स्‍कूल के सहारे बच्‍चों को मत छोडि़ए. उनका जीवन संवारने की जिम्‍मेदारी हमारी है, स्‍कूल की नहीं. बच्‍चा आपका है, स्‍कूल का नहीं. इसे बहुत अच्‍छी तरह समझना होगा.

Jan 2, 2019, 09:52 AM IST
डियर जिंदगी: जोड़े रखना ‘मन के तार’!

डियर जिंदगी: जोड़े रखना ‘मन के तार’!

‘इस बरस आपके मन के तार उन सबसे जुड़े रहें, जिन्‍हें आप प्रेम करते हैं. जो आपको स्‍नेह करते हैं. उनकी आत्‍मीयता, स्‍नेहन के आंगन में आपको जिंदगी के सबरंग मिले!’

Jan 1, 2019, 08:39 AM IST