close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अमेरिकी राजदूत ने चीन से कहा, तिब्बत के निर्वासित नेता दलाई लामा से करें बातचीत

तिब्बत की राजधानी ल्हासा में विद्रोह नाकाम होने के बाद दलाई 1959 में भारत आने के बाद से अपने लोगों के भविष्य को लेकर चीन सरकार से समझौता की कोशिश करते रहे हैं. जिसकी बीजिंग स्थित अमेरिकी राजदूत ने पैरोकारी की है.

अमेरिकी राजदूत ने चीन से कहा, तिब्बत के निर्वासित नेता दलाई लामा से करें बातचीत
2010 से बीजिंग के साथ वार्ता रूकी पड़ी है. (फाइल फोटो)

बीजिंग: अमेरिकी राजदूत ने तिब्बत की अपनी यात्रा के दौरान चीन से दलाई लामा के साथ वार्ता करने का अनुरोध किया है. बीजिंग स्थित अमेरिकी दूतावास ने शनिवार को यह जानकारी दी. 

यहां नियुक्त अमेरिकी राजदूत टेरी ब्रानस्टड ने उत्तर पश्चिम चीन के छिंघाई प्रांत का दौरा किया, जो तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र है और वहां राजनयिक एवं पत्रकारों के प्रवेश पर प्रतिबंध है. 

मतभेदों को दूर करने पर दिया बल
दूतावास के प्रवक्ता ने ईमेल के जरिए एएफपी से कहा, ‘‘उन्होंने चीन सरकार को दलाई लामा या उनके प्रतिनिधियों से बगैर किसी पूर्व शर्त के वार्ता करने के लिए प्रोत्साहित किया है ताकि मतभेदों को दूर किया जा सके. ’’ 

चीन पर मानवाधिकार हनन का है आरोप
मानवाधिकार संगठनों ने चीन पर तिब्बत के क्षेत्र में दमन करने और वहां की संस्कृति पर प्रहार करने तथा अलगवाद पर कार्रवाई करने का आरोप लगाया है. गौरतलब है कि तिब्बत की राजधानी ल्हासा में विद्रोह नाकाम होने के बाद दलाई 1959 में भारत आने के बाद से अपने लोगों के भविष्य को लेकर चीन सरकार से समझौता की कोशिश करते रहे हैं. 

दलाई लामा चला रहे हैं अभियान
तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा अब व्यापक स्वायत्ता के लिए अभियान चला रहे हैं. लेकिन 2010 से बीजिंग के साथ वार्ता रूकी पड़ी है. अमेरिकी राजदूत ने तिब्बत के धार्मिक एवं सांस्कृतिक नेताओं से मुलाकात की.