close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ट्रंप ने फिर अलापा कश्मीर मसले पर मध्यस्थता का राग, कहा- भारत-पाक के बीच हालात विस्फोटक

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से कश्मीर मसले पर मध्यस्थता का राग अलापा है. ट्रंप ने कहा कि कश्मीर का मामला बेहद जटिल है.

ट्रंप ने फिर अलापा कश्मीर मसले पर मध्यस्थता का राग, कहा- भारत-पाक के बीच हालात विस्फोटक
ट्रंप ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष इस सप्ताह के अंत मे यह मुद्दा उठाएंगे.

नई दिल्ली: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से कश्मीर मसले पर मध्यस्थता का राग अलापा है. ट्रंप ने कहा कि कश्मीर का मामला बेहद जटिल है. भारत-पाकिस्तान के बीच हालात विस्फोटक हैं. ट्रंप ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष इस सप्ताह के अंत मे यह मुद्दा उठाएंगे. पिछले कुछ सप्ताहों में यह तीसरा मौका है जब ट्रंप ने कश्मीर मसले पर मध्यस्थता की पेशकश की है. उधर, हर बार भारत ने मध्यस्थता की पेशकश को ठुकराया है. 

व्हाइट हाउस में एक सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा, "मध्यस्थता के लिये जो भी बेहतर हो सकेगा, मैं वो करूंगा. मेरे दोनों देशों से बेहतर संबंध हैं लेकिन फिलहाल दोनों के बीच तनाव है." 

ट्रंप ने कहा, "कश्मीर का मामला बेहद जटिल है. भारत पाकिस्तान के बीच हालात विस्फोटक हैं. पीएम इमरान खान हाल ही में अमेरिका आए थे. मैं पीएम मोदी से इस सप्ताह फ्रांस में मुलाकात करूंगा. इसलिए मुझे लगता है कि हम इस हालात में मदद कर रहे हैं लेकिन दोनों देशों के बीच कई समस्याएं हैं"

ये भी पढ़ें: एस.जयशंकर के पहुंचने से पहले कश्मीर मुद्दे पर नेपाल का बड़ा बयान, कहा- बातचीत ही एक रास्ता

 

ये भी पढ़ें: भारत ने उठाया ऐसा कदम, पाकिस्तान चिल्लाने लगा- 'पानी-पानी', कहा- हम डूब जाएंगे

दूसरी ओर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ब्रिटिश समकक्ष बोरिस जॉनसन से फोन पर बात की. जॉनसन ने दो टूक कहा कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान का द्विपक्षीय मामला है. मोदी ने गुरुवार को लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग के सामने स्वतंत्रता दिवस मना रहे भारतीयों पर हुए हमले का मुद्दा उठाया. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री जॉनसन ने घटना के लिए खेद जताया और भरोसा दिया कि भारतीय उच्चायोग, उसके कर्मचारियों और आगंतुकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कदम उठाया जाएगा.