फुकुशिमा परमाणु संयंत्र के दो रिएक्टरों से रिसे रेडियोएक्टिव ईंधन की सफाई को लेकर हुआ बड़ा फैसला

समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, फुकुशिमा प्रांत में स्थित संयंत्र के छह रिएक्टर 11 मार्च, 2011 को आए 9.0 तीव्रता वाले भूकंप और सुनामी की वजह से क्षतिग्रस्त हो गए थे.

फुकुशिमा परमाणु संयंत्र के दो रिएक्टरों से रिसे रेडियोएक्टिव ईंधन की सफाई को लेकर हुआ बड़ा फैसला
फोटो- IANS

टोक्यो : जापानी (Japan) अधिकारियों ने साल 2011 में आए भूकंप और सुनामी से क्षतिग्रस्त हुए फुकुशिमा दायची परमाणु संयत्र (Fukushima Daiichi nuclear plant) के दो रिएक्टरों से रिसे रेडियोएक्टिव ईंधन की सफाई के काम में विलंबर करने का निर्णय लिया है. यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने दी. समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, फुकुशिमा प्रांत में स्थित संयंत्र के छह रिएक्टर 11 मार्च, 2011 को आए 9.0 तीव्रता वाले भूकंप और सुनामी की वजह से क्षतिग्रस्त हो गए थे.

इस परमाणु संयंत्र का निर्माण टोक्यो इलेक्ट्रिक पॉवर कंपनी (टीईपीसीओ) ने 1970 में किया था, जिसे 2041-2050 के मध्य पूरी तरह से धवस्त किए जाने की समयसीमा तय की गई थी. सरकार ने रिएक्टर एक और दो से ईंधनों को हटाने में देरी करने का फैसला शुक्रवार को लिया.

चीफ कैबिनेट सेक्रेटरी योशीहिदे सुगा ने संवाददाताओं से कहा कि सरकार ने फुकुशिमा केंद्र को पूरी तरह से ध्वस्त करने को लेकर मध्यकालिक और दीर्घकालिक योजना पर चर्चा की है.

रिएक्टर एक से ईंधनों को हटाने में चार-पांच साल तक की देरी करने का फैसला किया गया है, जिससे इस कार्य की शुरुआत 2027 और 2028 में और रिएक्टर दो को लेकर प्रक्रिया में एक से लेकर तीन साल तक देर किए जाने का फैसला किया गया है. इस पर काम साल 2024 और 2026 में शुरू हो सकता है.

कंपनी द्वारा बताए गए कारणों में से एक कारण रेडिएशन की चरम सीमा बताई जा रही है, जिसकी वजह से वहां भेजे गए इलेक्ट्रिॉनिक और रोबोटिक डिवाइस भी खराब हो गए. ऐसे में वहां पर मानव को भेजना अत्यंत घातक साबित हो सकता है.