पाकिस्तान आतंकवाद के बुनियादी ढांचे को नष्ट करने के लिए ठोस कार्रवाई करे: अमेरिका

विदेश सचिव ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत को अमेरिका से मिले समर्थन को लेकर अमेरिकी सरकार और पोम्पियो की सराहना की. पोम्पियो ने सीमा पार (पाकिस्तान) से होने वाले आतंकवाद के बारे में भारत की चिंताओं को समझने की बात कही.

पाकिस्तान आतंकवाद के बुनियादी ढांचे को नष्ट करने के लिए ठोस कार्रवाई करे: अमेरिका
विदेश सचिव विजय गोखले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के साथ.

वाशिंगटन: विदेश सचिव विजय गोखले और अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के बीच सोमवार को हुई वार्ता में भारत और अमेरिका इस बात पर सहमत हुए कि पाकिस्तान को आतंकवादी ढांचे को नेस्तनाबूद करने के लिए ‘‘ठोस कार्रवाई’’ करने की जरूरत है. गोखले और पोम्पियो ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद विदेश नीति और सुरक्षा से जुड़े अहम मुद्दों पर चर्चा की. हालांकि, प्रोटोकॉल के मुताबिक पोम्पियो का गोखले से मिलना असमान्य है, लेकिन पिछले कुछ बरसों में अमेरिकी विदेश मंत्री ने गोखले के पूर्वाधिकारी एस जयशंकर से भी मुलाकात की थी.

गोखले अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ, विदेश मंत्रालय में राजनीतिक मामलों के उपमंत्री डेविड हेले और मंत्रालय में शस्त्र नियंत्रण एवं अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मामलों की उपमंत्री एंड्रिया थॉम्पसन के साथ द्विपक्षीय विदेश कार्यालय परामर्श और रणनीतिक सुरक्षा वार्ता करने के लिए रविवार को अमेरिका पहुंचे. पाकिस्तानी आतंकी संगठन ‘जैश ए मोहम्मद प्रमुख’ मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा एक वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने के लिए भारत के कोशिशें तेज करने के बीच गोखले इस यात्रा पर हैं.

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि प्रथम मंत्री स्तरीय 2+2 वार्ता के लिए सितंबर 2018 में अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो के भारत की यात्रा करने के बाद से भारत-अमेरिका रणनीतिक साझेदारी की गुणवत्ता तथा इस दिशा में महत्वपूर्ण प्रगति पर दोनों देशों ने संतोष प्रकट किया. विदेश सचिव ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत को अमेरिका से मिले समर्थन को लेकर अमेरिकी सरकार और पोम्पियो की सराहना की. पोम्पियो ने सीमा पार (पाकिस्तान) से होने वाले आतंकवाद के बारे में भारत की चिंताओं को समझने की बात कही.

बयान में कहा गया है कि वे इस बात पर सहमत हुए कि पाकिस्तान को आतंकी ढांचों को नेस्तनाबूद करने और अपनी सरजमीं पर सभी आतंकी संगठनों के पनाहगाह को बंद करने के लिए ठोस कार्रवाई करने की जरूरत है. वे इस बात पर भी सहमत हुए कि जो लोग/देश किसी भी रूप में आतंकवाद का समर्थन करते हैं, या बढ़ावा देते हैं उन्हें जवाबदेह ठहराया जाए. पाकिस्तान के बालाकोट में ‘जैश-ए-मोहम्मद’ के ठिकाने पर भारतीय वायुसेना के हमले के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने के मद्देनजर इस वार्ता को अहम माना जा रहा है.

विदेश विभाग के उप प्रवक्ता राबर्ट पल्लाडिनो ने पिछले मंगलवार को एक न्यूज क्रांफेंस में कहा था कि विदेश मंत्री पोम्पियो ने दोनों देशों (भारत और पाकिस्तान) के बीच तनाव दूर करने में अहम भूमिका निभाई थी. उन्होंने कहा था कि पोम्पियो ने प्रत्यक्ष रूप से कूटनीतिक वार्ता की थी और दोनों देशों के बीच तनाव दूर करने में अहम भूमिका निभाई थी. अपनी यात्रा के दौरान विदेश सचिव द्वारा अमेरिकी प्रशासन और अमेरिकी कांग्रेस के वरिष्ठ अधिकारियों से भी मुलाकात की संभावना है.