सीमा पार आतंकवाद से अपनी सुरक्षा करने की भारत के औचित्य को मान्यता देते हैं: फ्रांस

फ्रांस ने कहा कि व सीमा पार आतंकवाद से अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने की भारत के औचित्य को मान्यता देता है. 

सीमा पार आतंकवाद से अपनी सुरक्षा करने की भारत के औचित्य को मान्यता देते हैं: फ्रांस
(फाइल फोटो साभार - रॉयटर्स)

पेरिस: फ्रांस ने पुलवामा आतंकवादी हमले को ‘भयावह’ बताकर उसकी निंदा करते हुए कहा कि पाकिस्तान अपनी धरती से चल रहे आतंकवादी समूहों को खत्म करे. पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाकर किए गए आत्मघाती हमले में अर्द्धसैनिक बल के 40 जवान शहीद हुए थे.

यूरोप और विदेश मामलों के मंत्रालय के कार्यवाहक प्रवक्ता ने कहा, 'फ्रांस पुलवामा में भारतीय सुरक्षा बलों पर 14 फरवरी को किये गए भयावह हमले की निंदा करता है, जिसकी जिम्मेदारी आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद ने ली है.'

अधिकारी ने एक बयान में कहा,‘फ्रांस सीमा पार आतंकवाद से अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने की भारत के औचित्य को मान्यता देता है और पाकिस्तान से अपने भूभाग में स्थापित आतंकवादी समूहों को खत्म करने को कहता है.’

'फ्रांस आतंकवाद के सभी स्वरूपों के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ'
अधिकारी ने कहा कि फ्रांस आतंकवाद के सभी स्वरूपों के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ है और इस हमले के लिये जिम्मेदार आतंकवादियों पर प्रतिबंध लगाने और उनके वित्तीय नेटवर्क पर रोक लगाने के लिये अंतरराष्ट्रीय समुदाय को लामबंद करने में पूरी तरह लगा हुआ है.

यह बयान फ्रांस के एक वरिष्ठ सूत्र के पीटीआई से यह कहने के कुछ दिन बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि उनका देश जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने के लिये संयुक्त राष्ट्र में एक प्रस्ताव पेश करेगा. गौरतलब है कि जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा आतंकवादी हमले की जिम्मेदारी ली है.

बयान में कहा गया है,‘फ्रांस भारत और पाकिस्तान से संयम बरतने की अपील करता है ताकि सैन्य टकराव के किसी भी जोखिम को टाला जा सके और क्षेत्र में सामरिक स्थिरता की रक्षा की जा सके.’  बयान में कहा गया है कि इस्लामाबाद और नयी दिल्ली के बीच द्विपक्षीय वार्ता को बहाल किया जाना मतभेदों के शांतिपूर्ण हल को शुरू करने के लिये जरूरी है.

(इनपुट - भाषा)