IS के आखिरी गढ़ में कार्रवाई में नागरिकों की वजह से हो रही है देरी : सैन्यबल
Advertisement

IS के आखिरी गढ़ में कार्रवाई में नागरिकों की वजह से हो रही है देरी : सैन्यबल

एसडीएफ के एक अन्य प्रवक्ता ने बताया कि फरात नदी के उत्तरी तट पर बागौज गांव के आसपास के क्षेत्र पर कट्टर जिहादियों का नियंत्रण अब भी बना हुआ है. 

.(फाइल फोटो)

उमर ऑयल फील्ड (सीरिया): सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आखिरी गढ़ में बड़ी संख्या में आम नागरिकों की मौजूदगी की वजह से सैन्यबलों के अंतिम रूप से आगे बढ़ने में देरी हो रही है. कुर्दिश अगुवाई वाले बलों ने शनिवार को यह बात कही. अमेरिका समर्थित सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीएफ) के प्रवक्ता अदनान अफरीन ने कहा, ‘‘उस क्षेत्र में अब भी बड़ी संख्या में आम नागिरक हैं.’’

दरअसल इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि उन्हें जिहादियों की खलीफा व्यवस्था के समापन की घोषणा की उम्मीद है. अफरीन ने कहा, ‘‘हमें (नागरिकों की) इतनी बड़ी संख्या की उम्मीद नहीं थी, वरना हम चार दिन पहले अपना अभियान बहाल नहीं करते. यही वजह है कि उसमें देरी हो रही है.’’

एसडीएफ के एक अन्य प्रवक्ता ने बताया कि फरात नदी के उत्तरी तट पर बागौज गांव के आसपास के क्षेत्र पर कट्टर जिहादियों का नियंत्रण अब भी बना हुआ है. प्रवक्ता मुस्तफा बाली ने कहा, ‘‘बागौज के अंदर के हिस्से में अब भी आईएस ग्रुप का नियंत्रण है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘बागौज के अंदर अब भी नागरिक हैं और हम उन्हें वहां से निकालने में जुटे हैं.’’ दोनों प्रवक्ताओं में से किसी ने भी ट्रंप की घोषणा पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. 

Trending news