close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

610 भगोड़ों के इंटरव्यू और 4 साल के शोध के बाद उत्तर कोरिया में पता चला कुछ ऐसा, जानकर हो जाएंगे हैरान

 दक्षिण कोरिया के एक एनजीओ ने मंगलवार को कहा कि उसने चार साल के शोध व 610 भगोड़ों के साक्षात्कार के बाद उत्तर कोरिया में सैकड़ों सार्वजनिक वध स्थलों और सरकारी स्वीकृति वाले हत्या स्थलों की पहचान की है. 

610 भगोड़ों के इंटरव्यू और 4 साल के शोध के बाद उत्तर कोरिया में पता चला कुछ ऐसा, जानकर हो जाएंगे हैरान
.(फाइल फोटो)

सियोल: दक्षिण कोरिया के एक एनजीओ ने मंगलवार को कहा कि उसने चार साल के शोध व 610 भगोड़ों के साक्षात्कार के बाद उत्तर कोरिया में सैकड़ों सार्वजनिक वध स्थलों और सरकारी स्वीकृति वाले हत्या स्थलों की पहचान की है. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, ट्रांजिशनल जस्टिस वर्किं ग ग्रुप(टीजेडब्ल्यूजी) ने सरकारी स्वीकृति वाले हत्या स्थलों की 323 रिपोर्ट प्राप्त की है. इस निष्कर्ष को एक रिपोर्ट में रिलीज किया गया, जिसका शीर्षक 'मैपिंग द फेट ऑफ द डेड : किलिंग एंड बुरियल्स इन नार्थ कोरिया' है.

इसमें सार्वजनिक वध स्थलों की 318 रिपोर्टों का दस्तावेजीकरण भी किया गया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि सार्वजनिक वध 1960 से हर दशक में किए गए. ये वध नदी किनारे, खुले स्थानों और क्षेत्रों, बाजारों, पहाड़ों, खेल के मैदानों और स्थानीय स्कूलों में किए गए. रपट में कहा गया है, "लगभग सभी सरकारी मंजूरी वाली हत्या को सार्वजनिक वध की तरह रिपोर्ट किया गया.

सार्वजनिक वध से पहले तत्काल मौके पर संक्षिप्त मुकदमा चलाया जाता था, जहां आरोप बयान किए जाते और सजा दी जाती थी. इसमें आरोपी के लिए कानूनी वकील नहीं होते थे."