close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

FATF की चिंताओं के समाधान के बारे में कुरैशी ने पोम्पिओ को दी सूचना: विदेश कार्यालय

पेरिस स्थित एफएटीएफ ने पिछले साल जून में पाकिस्तान को निगरानी सूची में डाल दिया था ताकि वह आतंकवादी संगठनों को समर्थन मुहैया कराना बंद करे.

FATF की चिंताओं के समाधान के बारे में कुरैशी ने पोम्पिओ को दी सूचना: विदेश कार्यालय

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मंगलवार को अपने अमेरिकी समकक्ष माइक पोम्पिओ को वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (एफएटीएफ) की ओर से जाहिर की गई चिंताओं के समाधान के लिए पाकिस्तान की ओर से उठाए गए कदमों की जानकारी दी. कुरैशी ने पाकिस्तान में आतंकी गतिविधियों के वित्तपोषण पर लगाम लगाने के लिए उठाए गए कदमों से भी पोम्पिओ को अवगत कराया.

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, ब्रिटेन की आधिकारिक यात्रा पर गए कुरैशी और पोम्पिओ के बीच फोन पर हुई बातचीत के दौरान द्विपक्षीय संबंधों, क्षेत्रीय शांति एवं सुरक्षा पर चर्चा हुई.

पेरिस स्थित एफएटीएफ ने पिछले साल जून में पाकिस्तान को निगरानी सूची में डाल दिया था ताकि वह आतंकवादी संगठनों को समर्थन मुहैया कराना बंद करे.

फरवरी में एफएटीएफ ने जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और जमात-उद-दावा जैसे आतंकवादी संगठनों का वित्तपोषण बंद करने में नाकाम रहने पर पाकिस्तान को ‘ग्रे’ सूची में बनाए रखने का फैसला किया था.

पाकिस्तान के 10 सदस्यों वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने पिछले महीने चीन के ग्वांग्झोऊ में एफएटीएफ के एशिया-प्रशांत समूह (एपीजी) की दो दिवसीय बैठक में शिरकत की थी. इस बैठक में प्रतिनिधिमंडल ने धनशोधन एवं आतंकी वित्तपोषण के खिलाफ पाकिस्तान के प्रयासों का बचाव किया था.

बयान के मुताबिक, ‘‘उन्होंने एफएटीएफ की कार्य योजना के अनुरूप पाकिस्तान की ओर से उठाए जा रहे कदमों के बारे में भी बात की. इस संदर्भ में उन्होंने उन नियामक तंत्रों का भी प्रमुखता से जिक्र किया जिन्हें धनशोधन एवं आतंकी वित्तपोषण पर लगाम के लिए तैयार किया गया है.’’ 

कुरैशी ने आतंकवाद से मुकाबले और आर्थिक पुनर्संरचना के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना के अनुरूप पाकिस्तान की ओर से उठाए जा रहे कदमों के बारे में भी पोम्पिओ को जानकारी दी.