अमेरिकी व्यक्ति ने पड़ोसी महिला की हत्या की, फिर दिल निकालकर आलू के साथ पकाया

एंडरसन पर उसके अंकल लियोन पे और उनकी 4 साल की पोती कैओस येट्स की हत्या का भी आरोप है. उसने अपनी आंटी डेलसी पे को भी चाकू मारा था, लेकिन वह बच गई थीं. घटनास्थल से अधिकारियों ने जब एंडरसन को पकड़ा, तब वह तकिए पर उलटी कर रहा था. बाद में उसने अधिकारियों को ब्लैंकेनशिप के बारे में बताया.

अमेरिकी व्यक्ति ने पड़ोसी महिला की हत्या की, फिर दिल निकालकर आलू के साथ पकाया
प्रतीकात्मक फोटो

ओक्लाहोमा: अमेरिका के ओक्लाहोमा में एक व्यक्ति ने अपनी पड़ोसी महिला की हत्या कर दी. इतना ही नहीं उसने महिला का दिल काटकर निकाल लिया ताकि वह उसे आलू के साथ पका कर खा सके. ओक्लाहोमा स्टेट ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन के एक एजेंट ने जज को बताया कि लॉरेंस पॉल एंडरसन ने ओक्लाहोमा सिटी के दक्षिण-पश्चिम में लगभग 40 मील की दूरी पर चिकशा में अपनी पड़ोसी एंड्रिया लिन ब्लैंकेनशिप की उसके ही घर में हत्या कर दी. इसके बाद उसने उसका दिल काटकर निकाल लिया, ताकि उसे आलू के साथ पकाकर अपने परिवार को खिलाकर राक्षसों को बाहर निकाल सके.

हाल ही में जेल से छूटा था आरोपी

एंडरसन पर उसके अंकल लियोन पे और उनकी 4 साल की पोती कैओस येट्स की हत्या का भी आरोप है. उसने अपनी आंटी डेलसी पे को भी चाकू मारा था, लेकिन वह बच गई थीं. घटनास्थल से अधिकारियों ने जब एंडरसन को पकड़ा, तब वह तकिए पर उलटी कर रहा था. बाद में उसने अधिकारियों को ब्लैंकेनशिप के बारे में बताया. उसे 20 साल की सजा मिल चुकी है, जो कम की गई और वह जनवरी में ही रिहा हुआ था.

ये भी पढ़ें: DNA Exclusive: सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के लिए जारी गाइडलाइन्स को लेकर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कही ये बात

सिंगापुर में एक भारतीय मूल की महिला ने ढाया था नौकरानी पर जुल्म

इससे पहले, बुधवार को सिंगापुर (Singapore) से दिल दहलाने वाली खबर आई थी, जहां एक भारतवंशी महिला ने म्यांमार मूल की घरेलू सहायिका को यातना देने का जुर्म कबूल किया है. अभियोजन ने कहा है कि महिला ने घरेलू सहायिका को इतनी यातना दी की उसकी मौत हो गयी और यह ऐसी घटना है जो किसी की अंतरात्मा को झकझोर देगी. भारतवंशी महिला गायत्री मुरुगयन ने अपने यहां पांच महीने नौकरी के दौरान घरेलू सहायिका को यातना दी और वह उसे खाना भी नहीं देती थी. खाना नहीं मिलने के कारण घरेलू सहायिका का वजन मात्र 24 किलोग्राम रह गया था. सिर में चोट लगने से घरेलू सहायिका पियांग नेह डॉन की मौत हो गयी. मृत्यु से कुछ दिन पहले तक उसे रात में ग्रिल से बांधकर रखा जाता था और भोजन मांगने पर उससे मारपीट की जाती थी.

उम्रकैद की हो सकती है सजा

मामले में गायत्री ने 28 आरोपों पर अपना गुनाह कबूल लिया है. दोषी पाए जाने पर उसे उम्रकैद की सजा हो सकती है. सजा सुनाते समय 87 और आरोपों पर सुनवाई होगी. अभियोजन ने कहा कि महिला काम करने के लिए मई 2015 में सिंगापुर आयी थी और गायत्री के यहां उसकी पहली नौकरी थी. म्यांमार से आई महिला का तीन साल का एक बेटा भी है और वह बहुत गरीबी में जीवन गुजार रही थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में शव पर 31 जगह घाव के ताजा निशान और 47 अन्य जगहों पर चोट के निशान मिले थे.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.