फिर सुनाई दी युद्ध की आहट, यूक्रेन सीमा की तरफ बढ़ रहे रूसी सेना के टैंक
X

फिर सुनाई दी युद्ध की आहट, यूक्रेन सीमा की तरफ बढ़ रहे रूसी सेना के टैंक

रूस और यूक्रेन एक बार फिर से युद्ध के मुहाने पर आ खड़े हुए हैं. रूसी सेना हथियारों के साथ सीमा की तरफ बढ़ रही है. इससे जुड़े कई वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. रूस की तरफ से इस बारे में अब तक कोई बयान नहीं आया है, जिससे युद्ध की आशंका और गहरा गई है.

फिर सुनाई दी युद्ध की आहट, यूक्रेन सीमा की तरफ बढ़ रहे रूसी सेना के टैंक

मॉस्को: रूस और यूक्रेन (Russia & Ukraine) के बीच फिर से जंग (War) के आसार बन रहे हैं. बड़ी संख्या में रूसी सेना को यूक्रेन की तरफ जाते देखा गया है. सोशल मीडिया पर इससे जुड़े कई वीडियो वायरल हुए हैं, जिसमें रूसी सेना सैन्य साजो-सामान के साथ आवाजाही करते दिख रही है. कहा जा रहा है कि रूस सीमा पर जमावड़ा बढ़ा रहा है और आने वाले दिनों में हालात पहले जैसे हो सकते हैं. 

इस वजह से भड़का है Russia

हाल में ही यूक्रेन ने पूर्वी हिस्से में सक्रिय रूसी अलगाववादियों पर ड्रोन से हमले किए थे. इन हमलों में रूस समर्थित कई विद्रोहियों के मारे जाने का दावा किया गया था. इसके बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) के आदेश पर रूसी सेना ने क्रीमिया और यूक्रेन से लगी दूसरी सीमाओं पर सैन्य तैनाती को बढ़ा दिया है. अब सेना के साजोसामान के साथ कूच करते हुए वीडियो सामने आने के बाद जंग की आशंका बढ़ गई है.

ये भी पढ़ें -हैवान बना दोस्त: 40 मिनट में 107 बार किया चाकू से वार; आंख निकाली फिर फिल्म देखने चला गया

Army के कई वीडियो आए सामने

ट्विटर पर अपलोड हुए एक वीडियो में रूसी सेना के T-80U टैंक, ईंधन भरने वाले टैंक, सैन्य एम्बुलेंस और आर्मर्ड पर्सलन कैरियर को दिखाया गया है. ये गाड़ियां कुर्स्क शहर के बाहर से यूक्रेनी सीमा की ओर बढ़ती दिख रही हैं. एक दूसरे वीडियो में इस्कंदर टेक्टिकल मिसाइल सिस्टम को दिखाया गया है. इसे ब्रांस्क शहर के करीब से सड़क के रास्ते यूक्रेनी सीमा की तरफ जाते देखा गया है.

‘Border पर कुछ भी हो सकता है’

ये दोनों रूसी शहर यूक्रेन के साथ सीमा के सिर्फ 200 किमी के भीतर स्थित हैं. वहीं, एक अन्य वीडियो में वोरोनिश के मास्लोवका रेलवे स्टेशन पर रूसी के टैंकों की मौजूदगी दिखाई गई है. यहां से इन टैंकों को सीमा के सटे इलाकों की तरफ भेजा जाएगा. सेंटर फॉर नेवल एनालिसिस (सीएनए) में रशिया स्टडीज के डायरेक्टर माइकल कोफमैन ने एक ट्वीट में लिखा. ‘मुझे लगता है कि यह एक महत्वपूर्ण डेवलपमेंट है. इस तनाव के कारण सीमा पर कुछ भी हो सकता है. यह 2015 के सर्दियों जैसी स्थिति है. अगले कुछ दिन या महीनों में कुछ बड़ा हो सकता है’.

 

Trending news