रिपोर्ट कार्ड दिखाकर दिल्ली का दिल जीतेंगे केजरीवाल?

दिल्ली की सियासत में उबाल का दौर शुरू हो चुका है. आने वाले कुछ ही दिनों में सियासी महामुकाबला शुरू होने वाला है. जिसके लिए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी अपनी कमर कस ली है. उन्होंने अपने 5 साल के कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड पेश किया है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 25, 2019, 01:46 PM IST
    1. दिल्ली के 'रण' के लिए केजरीवाल तैयार
    2. सीएम केजरीवाल ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड
    3. 5 साल के कामकाज का दिया हिसाब
    4. दिल्ली चुनाव में कौन कितना दमदार?
रिपोर्ट कार्ड दिखाकर दिल्ली का दिल जीतेंगे केजरीवाल?

नई दिल्ली: दिल्ली में फरवरी में चुनाव होने हैं और केजरीवाल सरकार ने भी इसके लिए कमर कस ली है. रविवार को प्रधानमंत्री मोदी ने अनअधिकृत कॉलोनियों को नियमित किए जाने को लेकर दिल्ली में बड़ी रैली की तो आज केजरीवाल की बारी थी. जिसके बाद अरविंद केजरीवाल ने भी अपनी तैयारी करनी शुरू कर दी.

रिपोर्ट कार्ड दिखाकर दिल्ली का दिल जीतेंगे केजरीवाल?

अरविंद केजरीवाल ने अपनी सरकार के पांच साल के कामकाज का रिपोर्ट कार्ड जारी किया और अच्छी शिक्षा तथा निशुल्क स्वास्थ्य सेवाओं को 'आप' सरकार की उपलब्धि बताया. ऐसे में सवाल ये है कि अरविंद इस रिपोर्ट कार्ड में केजरीवाल की कितनी नीतियां, कितनी कारगर साबित हुईं.

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने राजधानी में झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले लोगों के लिए हाउसिंग योजना की घोषणा की. इस योजना का नाम 'मुख्यमंत्री आवास योजना' रखा गया है. सरकार का कहना है कि इसके तहत इन परिवारों को पक्का घर मुहैया कराया जाएगा.

दिल्ली के 'रण' के लिए केजरीवाल तैयार

आम आदमी पार्टी की सरकार ने आज ही अपने पांच साल के कार्य काल का रिपोर्ट कार्ड पेश किया. जिसमें इसने बताया है कि बेहतर शिक्षा और मुफ्त इलाज इसकी बड़ी उपलब्धियों में शामिल रही है. केजरीवाल ने खेल क्षेत्र को लेकर भी एक ट्वीट किया, जिसमें अपनी सरकार की उपलब्धि बताई.

इसे भी पढ़ें: दिल्ली चुनावः डाल-डाल मोदी, पात-पात केजरी

अगले कुछ दिनों में किसी भी वक्त दिल्ली विधानसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा हो सकती है और उस दौरान आचार संहिता लागू रहेगी जिस दौरान सरकार किसी योजना की घोषणा नहीं कर सकती. अब दिल्ली के महामुकाबले में किसमें कितना है दम? ये तो वक्त ही बताएगा.

इसे भी पढ़ें: IMF ने बताया बुरे दौर में है भारतीय अर्थव्यवस्था, सरकार उठाए ठोस कदम

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़