शिवपाल यादव का छलका दर्द, जानें क्यों भाजपा को लगे कोसने

सुरक्षा में कटौती पर शिवपाल यादव का दर्द जगजाहिर हो गया है, उन्होंने कहा है कि 'भाजपा से यही उम्मीद थी.'

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 29, 2022, 02:23 PM IST
  • भाजपा पर जमकर बरसे शिवपाल यादव
  • सुरक्षा में कटौती होने पर आया गुस्सा
शिवपाल यादव का छलका दर्द, जानें क्यों भाजपा को लगे कोसने

नई दिल्ली: प्रगतिवादी समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने मंगलवार को योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार पर उनकी सुरक्षा कम करने को लेकर निशाना साधा और कहा कि भाजपा से यही 'उम्मीद' थी और अब डिंपल यादव की जीत का अंतर (मैनपुरी उपचुनाव में) और बढ़ जाएगा.

मैनपुरी में पूरी ताकत झोंक रही सपा
सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद उनके प्रतिनिधित्व वाली मैनपुरी सीट पर होने वाले उपचुनाव में सपा प्रमुख अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव इस सीट से पार्टी की उम्मीदवार हैं. डिंपल के लिए प्रचार कर रहे यादव से जब उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उनकी सुरक्षा कम करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'भाजपा से इसकी उम्मीद थी और अब जनता और पार्टी के कार्यकर्ता मेरी सुरक्षा करेंगे.'

उन्होंने कहा, 'डिंपल यादव की जीत का अंतर अब और बढ़ेगा.' मैनपुरी संसदीय क्षेत्र में पांच दिसंबर को मतदान और आठ दिसंबर को मतगणना होगी.

सोमवार को मैनपुरी के करहल इलाके में एक चुनावी जनसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उनकी (शिवपाल) तुलना 'फुटबॉल और पेंडुलम' से करने के बारे में पूछे जाने पर यादव ने कहा, 'अखिलेश पहले ही पेंडुलम टिप्पणी पर जवाब दे चुके हैं. जहां तक फुटबॉल का सवाल है, एक अच्छा खिलाड़ी जानता है कि गोल कैसे करना है. अब डिंपल (उपचुनाव में) एक गोल करेंगी.'

शिवपाल यादव को किसने किया बेइज्जत?
मुख्यमंत्री ने सोमवार को जनसभा में कहा था, 'मैं एक दिन बयान पढ़ रहा था चाचा शिवपाल का, उनकी स्थिति पेंडुलम जैसी हो गयी है. पिछली बार आपने देखा होगा कितना बेइज्जत करके भेजा, कुर्सी तक नहीं मिली, कुर्सी के हैंडल पर बैठना पड़ा था.' उन्होंने सलाह दिया, 'जीवन में कभी पेंडुलम नहीं बनना चाहिए, पेंडुलम का कोई मतलब नहीं होता है. वह (शिवपाल) फुटबॉल बन गये हैं, उन्हें फुटबॉल बनने से बचना होगा.'

सपा प्रमुख अखिलेश ने आदित्यनाथ को जवाब देते हुए ट्वीट किया था, 'माननीय शिवपाल सिंह यादव जी की सुरक्षा श्रेणी को कम करना आपत्तिजनक है. साथ ही ये भी कहना है कि पेंडुलम समय के गतिमान होने का प्रतीक है और वो सबके समय को बदलने का संकेत भी देता है और ये भी कहता है कि ऐसा कुछ भी स्थिर नहीं है जिस पर अहंकार किया जाए.'

सुरक्षा को लेकर भाजपा सपा में जंग
शिवपाल यादव की सुरक्षा को लेकर अखिलेश यादव के ट्वीट पर पलटवार करते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने सोमवार की देर रात ट्वीट किया, 'श्री शिवपाल सिंह यादव जी को भतीजे श्री अखिलेश यादव और सपा के अपराधियों से खतरा था, अब दोनों में मिलाप हो गया है तो सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा टल गया है, फिर भी उन्हें वाई श्रेणी सुरक्षा उपलब्ध है, यदि उन्हें सुरक्षा की समस्या है तो अवगत कराएं, जांच कर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी.'

राज्य सरकार का शिवपाल की सुरक्षा में कटौती का फैसला शिवपाल और अखिलेश के बीच मतभेद समाप्त होने और एक बार फिर हाथ मिलाने के बाद सामने आया है. उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश के मैनपुरी संसदीय क्षेत्र और रामपुर एवं खतौली विधानसभा क्षेत्र में होने वाले उपचुनावों के बीच राज्‍य सरकार ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया (प्रसपा) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की सुरक्षा ‘जेड श्रेणी’ से घटाकर ‘वाई श्रेणी’ की कर दी. एक वरिष्ठ अधिकारी ने यादव की सुरक्षा का स्तर घटाये जाने की सोमवार को पुष्टि की.

इसे भी पढ़ें- ‘अब्दुल’ मेरे यहां दरी नहीं बिछाएगा, अब वह भाजपा के यहां पोछा लगाएगा: आजम खान

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़