BSF के ‘बाज’ करेंगे बाजवा का शिकार

आतंकिस्तान के आकाओं को BSF के डीजी राकेश अस्थाना ने अल्टीमेटम दे दिया है कि दुश्मन ने अगर सुरंगों से आतंकी भेजे तो उन्हीं सुरंगों में BSF के जवान उनकी कब्र बना देंगे. अगर बाजवा के आतंकिस्तान ने बॉर्डर पर एक कदम भी बढ़ाया तो मौत पक्की है. 

BSF के ‘बाज’ करेंगे बाजवा का शिकार

नई दिल्लीः BSF के जांबाज जवान पाकिस्तान में 200 मीटर भीतर तक गए और सुरंग वाली बाजवा की साजिश की सघन जांच की . काबिलगौर बात ये है कि इस सुरंग को पाकिस्तान ने ही बनाया था और आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश की थी. आतंकियों का पहला ग्रुप इसी सुरंग से सीमापार कर आया था. लेकिन नगरोटा टोल प्लाजा में उसे मार गिराया गया. 

ऐसे चला सुरंग का पता
नगरोटा एनकाउंटर के बाद सेना और BSF को शक था कि हो न हो आतंकियों की घुसपैठ सुरंग के जरिए कराई गई हो. इसके बाद BSF की टीम ने विशेष जांच उपकरण मंगाए और सांबा सेक्टर की खाक छानी. तब कहीं जाकर इस सुरंग का पता चला.

इसके बाद BSF के जवान इसके भीतर दाखिल हुए और सुरंग के रास्ते चलते-चलते 200 मीटर पाकिस्तान के भीतर तक गए.

 BSF के डीजी ने चेताया
आतंकिस्तान के आकाओं को BSF के डीजी राकेश अस्थाना ने अल्टीमेटम दे दिया है कि दुश्मन ने अगर सुरंगों से आतंकी भेजे तो उन्हीं सुरंगों में BSF के जवान उनकी कब्र बना देंगे. अगर बाजवा के आतंकिस्तान ने बॉर्डर पर एक कदम भी बढ़ाया तो मौत पक्की है. हिन्दुस्तान की 6000 किमी. लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर तैनात हैं BSF के बाज जैसे फुर्तीले और तेज तर्रार जवान. BSF ने पाकिस्तान की हर आतंकी साजिश का मुंहतोड़ जवाब देते हुए इस साल घुसपैठ की हजारों कोशिशों को को नाकाम कर दिया है.

भले ही इसके लिए प्राणों की आहूति क्यों न देनी पड़ी हो लेकिन BSF के जवानों ने भारत माता का बाल बांका नहीं होने दिया. पाकिस्तान की जबरदस्त गोलाबारी के बीच भी BSF के जवान बॉर्डर की रक्षा में मुस्तैदी से डटे हैं. बॉर्डर पर जैसे ही आतंकी हरकत हुई BSF के जवानों ने आतंकियों का वहीं खात्मा कर दिया .

 
बाजवा की स्नाइपर वाली साजिश
इमरान- बाजवा के भेजे आतंकियों को कदम- कदम पर मार गिराने वाले BSF के लिए हर दिन नई चुनौतियां खड़ी हो रही हैं. अब पाकिस्तान ने स्नाइपर राइफलों का इस्तेमाल शुरू कर दिया है. पुंछ में बीएसएफ के जिस इंस्पेक्टर ने देश की रक्षा करते हुए शहादत दी है उन पर स्नाइपर राइफल से हमला किया गया था.

पाकिस्तान ने पहले बालाकोट के तारकुंडी इलाके में भारी गोलाबारी की और आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश की लेकिन जब BSF ने मुंहतोड़ जवाब दिया तो बाजवा की आतंकी आर्मी ने स्नाइपर रायफल का इस्तेमाल किया.

आतंकिस्तान की ड्रोन वाली साजिश
BSF के सामने बॉर्डर पर ड्रोन वाली पाकिस्तानी साजिश भी बड़ा चैलेंज है. चीन से हासिल किए सस्ते ड्रोन को पाकिस्तान ने आतंकियों के लिए हथियार और गोला बारूद भेजने का जरिया बनाया है लेकिन BSF ने कई मौकों पर पाकिस्तानी ड्रोन को या तो खदेड़ दिया या फिर मार गिराया है. सेना और BSF को ऐसी भी खबरें मिली हैं कि चीनी ड्रोन के जरिए पाकिस्तान जासूसी भी कर रहा है और ड्रग्स भी भेजने की नापाक कोशिश कर रहा है .

साजिश की सुरंगों में दुश्मनों की कब्र
बॉर्डर पर पाकिस्तान रेंजर्स और बाजवा की बैड आर्मी पर बीएसएफ का खौफ इस कदर है कि अब वो सुरंगे बनाकर घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं लेकिन बीएसएफ ने ऐसी तकनीक विकसित कर ली है कि सुरंगों का आसानी से पता लगाया जा सके.

फिऱ भी अगर पाकिस्तान ने आतंकी सुरंगे बनाईं तो बीएसएफ के जांबाज जवान उन्हीं सुरंगों में आतंकियों की कब्र बना देंगे. देश की सीमाओं की रक्षा में डटी BSF की स्थापना 1965 में हुई थी तब 25 बटालियन थीं लेकिन अब 192 बटालियन देश की रखवाली में लगी हैं. 

BSF की अभेद्य दीवार 
पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने BSF के जवानों को इस मौके पर बधाई देते हुए उनके शौर्य को सलाम किया. जम्मू कश्मीर से लेकर गुजरात और राजस्थान के दुर्गम बॉर्डर इलाकों में BSF की अभेद्य दीवार खड़ी है जिसे तोड़ना इमरान-बाजवा के बूते की बात नहीं है. जब जब आतंकिस्तान साजिश करेगा उसे मुंह की खानी पड़ेगी .

यह भी पढ़िएः ब्रह्मपुत्र नदी पर बांध बनाने वाला  है चीन, भारत और बांग्लादेश चिंतित 

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐप. जो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा...

नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-
Android Link -