• पूरी दुनिया में कोरोना से 1097810 लोग प्रभावित, अब तक 59140 लोगों की मौत हुई, 228405 लोग रोगमुक्त हुए
  • भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 2902, इसमें से 68 लोगों की मौत हुई, 184 इलाज के बाद ठीक हुए
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा 423 मरीज, 19 लोगों की मौत हुई, 42 लोग ठीक हुए
  • तमिलनाडु में कोरोना से 411 लोग प्रभावित, 1 की मौत, 6 लोग ठीक हुए
  • केरल में अब तक 295 लोगों को हुआ कोरोना, 2 की मौत हो चुकी है, 27 इलाज के बाद ठीक हुए
  • दिल्ली में कोरोना के 386 मरीज, 6 की मौत, 8 लोग ठीक हुए, मध्य प्रदेश में कोरोना से 155 लोग संक्रमित, 9 लोगों की मौत
  • यूपी में कोरोना के 188 मरीज, 14 लोग ठीक हुए, 2 लोगों की मौत
  • राजस्थान में कोरोना के 179 मरीज, 3 लोग इलाज के बाद ठीक हुए, अभी तक एक भी मौत नहीं
  • तेलंगाना में कोरोना के 158 मरीज, 7 लोगों की मौत, मात्र 1 ही इलाज के बाद ठीक हुआ
  • कर्नाटक में कोरोना के 128 मरीज और आंध्र प्रदेश में 161 लोगों में कोरोना वायरस का असर

देश की राजधानी दिल्ली को बंधक बनाने की 'साजिश'

नागरिकता कानून के विरोध में शाहीन बाग के बाद जाफराबाद और चांदबाग में महिलाओं का प्रदर्शन शुरू हो गया है. जाफराबाद मेट्रो स्टेशन बंद किया गया और सीलमपुर से मौजपुर सड़क प्रभावित हो गया. प्रदर्शन की वजह से वजीराबाद से गोकुलपुरी तक सड़क पर जाम लग गया और घंटों से लोग जाम में फंसे हैं.

देश की राजधानी दिल्ली को बंधक बनाने की 'साजिश'

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन काननू के खिलाफ विरोध प्रदर्शन लगातार बढ़ता जा रहा है. दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन का आज 71 वां दिन है. वहीं अब दिल्ली के अलग अलग इलाकों में प्रदर्शन के नाम पर सड़कों को जाम किया जा रहा है. हर जगह पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी है. लेकिन लोगों की मुश्किल बढ़ गई है.

शाहीन बाग की आंच फैलाने की कोशिश

दंगा भड़काने वाले शरजील इमाम ने अपने बयान में कहा था कि हजारों शाहीन बाग बनाने पड़ेंगे. ऐसे में अब शाहीन बाग के बाद दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में शाहीन बाग जैसा प्रदर्शन शुरू किया जा रहा है, वो भी तब जब सुप्रीम कोर्ट ने पहले ही शाहीन बाग को फटकार लगाया है. जाफराबाद और फिर चांदबाग में भी भारी संख्या में महिलाओं का धरना शुरू हो गया है. 

दिल्ली के जाफराबाद में क्या हुआ?

  • कल रात जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर बड़ी तादाद में महिलाएं पहुंची
  • महिलाओं ने कहा- वो भारत बंद के लिए प्रदर्शन करने आई हैं
  • महिलाओं ने कहा- वो भारत बंद के प्रदर्शन के बाद चली जाएंगी
  • झूठ बोलकर महिलाओं ने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर क़ब्जा किया
  • प्रदर्शन के नाम पर जाफराबाद सड़क को जाम कर दिया गया
  • महिलाओं ने एक तरफ की सड़क पर कब्जा कर लिया
  • जाफराबाद, सीलमपुर और लोनी कॉलोनी को जोड़ती है ये सड़क
  • जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास भारी संख्या में पुलिस की तैनाती

शाहीन बाग के लिए 'योगी फॉर्मूला' ही बेहतर

यहां पर काफी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है. लोगों को आने जाने में काफी परेशानी हो रही है. जाफराबाद मेट्रो स्टेशन को बंद करना पड़ा. इस मेट्रो स्टेशन पर लोगों को मेट्रो ट्रेन में चढ़ने या उतरने की इजाजत नहीं है. यानी दिल्ली के 3 इलाकों में CAA विरोधी प्रदर्शन हो रहा है.

शाहीन बाग के बाद जाफराबाद और अब चांद बाग में भी लोग प्रदर्शन पर उतर आए हैं. प्रदर्शन की वजह से चांदबाग इलाके में जाम लगा हुआ है. चांदबाग इलाके में वजीराबाद से गोकुलपुरी तक सड़क पर जाम है और लोग पिछले कई घंटे से जाम में फंसे हुए हैं. वहीं खजूरी खास में भी लोग सड़कों पर है. प्रदर्शनकारियों ने CAA और NRC को वापस लेने की मांग की. जबकि बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने जाफराबाद प्रदर्शन के जवाब में मौजपुर में CAA के समर्थन में प्रदर्शन किया. कपिल मिश्रा ने ये भी कहा कि दूसरा शाहीन बाग नहीं बनने देंगे.

दिल्ली को बंधक बनाने की साजिश?

जाफराबाद, चांद बाग, शाहीन बाग, खुरेजी क्या इन चारों जगहों पर नागरिकता संशोधन कानून की आड़ में सड़क जाम कर दिल्ली को बंधक बनाने की साजिश की जा रही है?

इसे भी पढ़ें: दो धड़े में बंट गया शाहीन बाग, 'प्रदर्शनकारियों में नेतृत्व को लेकर टकराव'

किसी के भी जेहन में ये सवाल नहीं उठ रहा कि दिल्ली की जनता को हेने वाली परेशानी के लिए कौन जिम्मेदार है? देखने वाली बात ये है कि इस तरह के प्रदर्शनों को कब तक इजाजत मिलती है? क्या चांदबाद और जाफराबाद में भी हालात शाहीनबाग जैसे होंगे या फिर इनपर कोई कार्रवाई होगी? 

इसे भी पढ़ें: CAA के विरोध में लगातार जनसभाएं कर रही हैं मुनव्वर राना की बेटियां