"जनरल डायर बनने की कोशिश ना करें CM योगी, एक बटन से बदल जाती हैं सरकारें"

देश में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ छिड़ी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है. इस बीच योगी आदित्यनाथ ने गोली को लेकर एक बयान दिया, जिसके बाद महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक ने उनकी तुलना जनरल डायर से कर दी.

"जनरल डायर बनने की कोशिश ना करें CM योगी, एक बटन से बदल जाती हैं सरकारें"

नई दिल्ली: शाहीन बाग की बात हो या फिर CAA के खिलाफ यूपी में हुए विरोध प्रदर्शनों के दौरान हुई मौतों का जिक्र हो, सीएम योगी के बयान उन्हें विवादों में ले जा रहे हैं. ताजा बयान ने सियासी गलियारों में फिर हंगामा खड़ा कर दिया है. विरोधियों ने तो उनकी तुलना जनरल डायर से कर दी है.

योगी आदित्यनाथ की जनरल डायर से तुलना

नवाब मलिक ने योगी आदित्यनाथ की तुलना जनरल डायर से की है. NCP नेता नवाब मलिक ने कहा है कि जनरल डायर बनने की कोशिश ना करें योगी. यूपी में हुई हिंसा पर सीएम योगी के बयान पर नवाब मलिक ने पलटवार किया है और कहा कि एक बटन से सरकारें बदल जाती हैं.

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान मारे गए लोगों पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान से विवाद खड़ा हो गया है. हिंसा के दौरान मारे गए लोगों पर योगी ने कहा, "अगर कोई मरने के लिए आ ही रहा है तो वो जिंदा कहां से हो जाएगा." 

विवादों में घिर गए सीएम योगी

सीएए के विरोध में दिसंबर में राज्यभर में प्रदर्शन हुए थे. इस दौरान, कुछ जगहों पर हिंसा भी हुई. यूपी सरकार ने कहा था कि सीएए के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन में 22 लोगों की मौत हुई थी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य विधानसभा को संबोधित करते हुए कहा, "पुलिस की गोली से कोई नहीं मारा गया. मरने वाले सभी उपद्रवियों की गोली से मारे गए हैं."

इस बीच दिल्ली में यूपी भवन के बाहर कुछ लोग हंगामा किया. ये हंगामा, देशद्रोह के आरोपी डॉ कफील खान की गिरफ्तारी के खिलाफ हुआ और प्रदर्शनकारी कफील की रिहाई की मांग किया.

सीएम ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर भी निशाना साधा है. गौरतलब है कि सीएए को लेकर यूपी में लखनऊ, कानपुर और प्रयागराज में लगातार प्रदर्शन जारी है जिसको लेकर सीएम योगी ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति किसी निर्दोष को मारने के लिए निकला है और वह पुलिस की चपेट में आता है. ऐसे में या तो पुलिसकर्मी मरे, या फिर वह मरे.

इसे भी पढ़ें: छिड़ दिया "मजहबी युद्ध", क्या सुप्रीम कोर्ट से ज्यादा समझदार हैं शरद पवार?

इससे पहले सीएम योगी ने शाहीन बाग को लेकर भी कहा था कि यहां जो बोली से नहीं मानेंगे वो गोली से मानेंगे. बयानों की बात की जाए तो सीएम योगी फिलहाल गोली से नीचे बात कर नहीं रहे, मामला चाहे दिल्ली के शाहीन बाग का हो या फिर यूपी में CAA के खिलाफ अलग-अलग जगह हो रहे प्रदर्शनों का. इसी को लेकर नवाब मलिक ने भी सीएम योगी की जनरल डायर से तुलना की और जलियावाला बाग कांड की याद दिलाई.

इसे भी पढ़ें: 'हिंदू आतंकवाद' पर कांग्रेस नेता अधीर रंजन के बयान से छिड़ गई सियासी जंग