जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हैंः राम माधव

नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर पर राम माधव ने कहा कि हम सीएए के खिलाफ हो रही हिंसा की निंदा करते हैं. विपक्ष और सांप्रदायिक ताकतें सीएए के खिलाफ हिंसा भड़का रही हैं. मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे सांप्रदायिक ताकतों के झूठे प्रचार के शिकार न हों. सीएए के खिलाफ झूठ का प्रोपागंडा बनाया गया है. पाकिस्तान से आए मुस्लिम भी तय प्रावधानों के अनुसार भारतीय नागरिकता के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हैंः राम माधव

नई दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव राम माधव ने दावा किया है कि जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य है. कश्मीर में पिछले 5 महीनों में कोई भी नागरिक हताहत नहीं हुआ है. बोर्ड परीक्षा में 99 फीसदी छात्र उपस्थित हुए. हम चाहते हैं कि जम्मू-कश्मीर में सभी प्रतिबंध हट जाएं. जल्द ही जम्मू-कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बहाल की जाएंगी. अधिकतर राजनीतिक नेताओं को रिहा कर दिया गया है. 100 से कम नेता नजरबंद हैं.

नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसा निंदनीयः माधव
नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर पर राम माधव ने कहा कि हम सीएए के खिलाफ हो रही हिंसा की निंदा करते हैं. विपक्ष और सांप्रदायिक ताकतें सीएए के खिलाफ हिंसा भड़का रही हैं. मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे सांप्रदायिक ताकतों के झूठे प्रचार के शिकार न हों. सीएए के खिलाफ झूठ का प्रोपागंडा बनाया गया है. पाकिस्तान से आए मुस्लिम भी तय प्रावधानों के अनुसार भारतीय नागरिकता के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

एनपीआर यूपीए का बच्चा था: राम माधव
एनपीआर पर बात करते हुए बीजेपी महासचिव ने कहा कि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) यूपीए का बच्चा था. राहुल गांधी नाम का सहारा ले रहे हैं. उन्हें आईना देखना चाहिए. कांग्रेस को सुरक्षा बलों और पुलिस पर हमले से बचना चाहिए. सीएए के खिलाफ हुई हिंसा में पुलिसकर्मियों पर हमले हो रहे हैं.

राम माधव बोले- पीओके भारत का अभिन्न अंग
पीओके पर बात करते हुए राम माधव ने कहा कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) भारत का अभिन्न अंग है. यहां तक ​​कि अगर पाकिस्तान पीओके की स्थिति बदलता है, तो यह इस तथ्य को नहीं बदलेगा कि पीओके भारत का अभिन्न अंग है. उन्होंने आगे कहा कि ओडिशा कांग्रेस के नेता की टिप्पणी कांग्रेस की पोल खोल दी है. यह साबित करता है कि कांग्रेस देश का माहौल बिगाड़ रही है.

करगिल व द्रास से हटा इंटरनेट बैन
45 दिन से इंटरनेट बैन झेल रहे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के कुछ इलाकों से शुक्रवार को इंटरनेट बैन हटा लिया गया. जानकारी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर राज्य से अलग होकर केंद्र शासित प्रदेश बने लद्दाख के करगिल और द्रास में इंटरनेट से प्रतिबंध हटा दिया गया है. 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के साथ ही जम्मू-कश्मीर से राज्य का दर्जा वापस ले लिया गया था और लद्दाख के साथ ही उसको केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया था.

ऐसे में किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए इंटरनेट बैन किया गया था.