आज पता चलेगा कि झारखंड में अबकी बार किसकी सरकार

झारखंड विधानसभा चुनाव में मतदान हो चुका है. अब सभी को इसके परिणाम का इंतजार है. आज सुबह 8 बजे से मतगणना शुरू होगी. विधानसभा चुनाव के कुछ एग्जिट पोल में बीजेपी को कम सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं लेकिन भाजपा के नेता अपनी सरकार बनने का दावा कर रहे हैं.

आज पता चलेगा कि झारखंड में अबकी बार किसकी सरकार

रांची: झारखंड विधानसभा की 81 सीटों पर  पांच चरणों में हुए चुनाव के नतीजे सोमवार शाम तक आएंगे. 24 जिला मुख्यालयों में गिनती सुबह 8 बजे से ही शुरू हो जाएगी. मतगणना का अधिकतम दौर चतरा में 28 राउंड और सबसे कम दो राउंड चंदनकियारी और तोरपा सीटों पर होगा. पहला परिणाम सोमवार दोपहर 1 बजे आने की उम्मीद है. 

 1215 प्रत्‍याशियों की किस्‍मत का फैसला

सोमवार को वोटों की गिनती के साथ ही जनता की अदालत में 1215 प्रत्‍याशियों की किस्‍मत का भी फैसला हो जाएगा. किसकी जमानत जब्‍त होगी, किसकी बचेगी, किसके सिर सजेगा ताज और किसकी बनेगी सरकार तमाम फैसले अब से चंद घंटे बाद सामने आ जाएंगे. सत्‍ता रहने या बेदखल होने की प्रत्‍याशा सबसे अधिक भाजपा के खेमे में देखी जा रही है.

हेमंत सोरेन को भी सत्ता वापसी की चाहत

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भी अपनी सरकार के वापस आने की उम्मीदें हैं. झामुमो इस बार कांग्रेस और राजद के साथ चुनाव मैदान में उतरी थी. झारखंड विधानसभा के एक्ज़िट पोल झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता हेमंत सोरेन के लिए अच्छी  खबर बन कर आये हैं. इस एग्जिट पोल के मुताबिक़ इस बार प्रदेश में गठबंधन सरकार बनेगी और कांग्रेस तथा आरजेडी की इस सरकार का प्रमुख घटक होगा झारखंड मुक्ति मोर्चा.

भाजपा के लिये चिंता बढ़ी

प्रदेश के मुख्यमंत्री रघुबर दास के लिए कल आये एग्जिट पोल के नतीजे चिंताजनक हो सकते हैं. मुख्यमंत्री ने चुनाव के पहले और चुनावी अभियान के दौरान भी कई बार ऐलान किया था कि अगली सरकार बीजेपी ही बनाएगी. लेकिन एग्जिट पोल ने उनके आत्मविश्वास पर प्रश्नचिन्ह खड़े कर दिए हैं, ऐसा लगता है. 

हेमंत के लिये है जबरदस्त चुनौती 

हेमंत सोरेन को इस बार भाजपा ने जम कर घेरा है. भाजपा ने लगभग अपनी सारी योजना हेमंत सोरेन को केंद्र में रख कर तैयार की है चाहे वे पार्टी के टिकटों का बंटवारा हो या सोरेन के विरुद्ध प्रत्याशी खड़ा करना हो, सोरेन को शिकस्त देने के लिए बीजेपी सारा ज़ोर लगा रही है. हेमंत सोरेन का चेहरा शिबू सोरेन वाली लोकप्रियता का नहीं है फिर भी उन्होंने अपने भाई दुर्गा सोरेन की तुलना में अपने पिता से कहीं अधिक सीखा है.

जरूर पढ़ें- हेमंत सोरेन के जीतने की संभावना कितनी?