• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 80,722 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,45,380: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 60,491 जबकि अबतक 4,167 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • देश भर में 532 घरेलू यात्री उड़ानें संचालित, 39,231 यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया
  • रेलवे ने 3060 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 40+ लाख यात्रियों को वापस घर पहुंचाया गया
  • एनपीपीए ने किफायती कीमतों पर एन -95 मास्क की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए एडवाइजरी जारी की, निर्माताओं ने कीमतें 47% तक कम कीं
  • लघु उद्योग इकाइयों को वित्तीय सहायता देने के लिए सरकार वित्तीय ऋण देने वाले नए संस्थानों की तलाश कर रही है: एमएसएमई मंत्री
  • यूजीसी के MOOCs प्लेटफ़ॉर्म पर एनिमेशन पाठ्यक्रम की शुरुआत , घर पर रह कर सीखें एक नया कौशल !
  • सुझाव: स्वास्थ्य में समग्र सुधार के लिए स्थानीय उत्पादित खाद्य पदार्थों को अपनी जीवन शैली का हिस्सा बनाएं

चीन का अजीबो-गरीब पैंतरा: भालू और चमगादड़ से कोरोना को भगाने की कोशिश

चीन ने पहले तो दुनिया को कोरोना नाम के जहर से बुरी तरह संक्रमित कर दिया और उसके बाद अब वो कोरोना वैक्सीन की खोज के लिए अजीबो-गरीब पैंतरे आजमा रहा है.

चीन का अजीबो-गरीब पैंतरा: भालू और चमगादड़ से कोरोना को भगाने की कोशिश

नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन की खोज के लिये चीन ने अपने डॉक्टरों को जंगली जानवरों के अंगों से दवा तैयार करने को कहा है. चीन सरकार को लगता है कि भालू के गॉल ब्लैडर में मौजूद तरल पदार्थ से बनी दवा कोरोना के मरीजों को ठीक कर देगी. 

चीन ने चमगादड़ से कोरोना फैलाया

अब सवाल ये है कि चमगादड़ से कोरोना वायरस की बात कहने वाले चीन की बात पर कितना भरोसा किया जा सकता है. दुनिया में दस लाख से ज्यादा लोग कोरोना के शिकार हो चुके हैं. मौत का आंकड़ा कम होने का नाम नहीं ले रहा. चीन के वुहान शहर से ही चमगादड़ के जरिए कोरोना के फैलने की खबर सबसे पहले आई थी लेकिन चीन ने अब जो फॉर्मूला निकाला है. उससे जानवरों की आफत जरूर आ गई है.

अब भालू से भागेगा वायरस?

अब चीन ने कोरोना की काट चाइनीज़ नुस्खा दिया है. भालू का पित्त, बकरी के सींग और तीन पौधों का सत मिलाकर कोरोना की दवा बनाने का दावा किया है. गंभीर रूप से बीमार लोगों को नई दवा की सिफारिश की है.

कोरोना के इलाज का चाइनीज़ नुस्खा?

चीन में जिंदा जानवरों को खाने और उनसे दवा बनाने की परंपरा हजारों साल पुरानी है. चीन में  54 प्रकार के जंगली जीव-जंतुओं को फार्म में पैदा करने और उन्हें खाने की इजाजत है. इस सूची में उदबिलाव, शुतुरमुर्ग, हैमस्टर, कछुए और घड़ियाल भी शामिल हैं.

कई शोधकर्ताओं का मानना है कि कोरोना का वायरस चमगादड़, सांप, पैंगोलिन या किसी अन्य जानवर से पैदा हुआ. चीन ने खुद कहा था की वुहान की एनिमल मार्केट से कोरोना सबसे पहले आया.

इसे भी पढ़ें: खुशखबरीः कोरोना का टीका बनाने से वैज्ञानिक केवल कुछ कदम दूर हैं

कोरोना की वैक्सीन, पक्का इलाज कब बनेगा, कैसे बनेगा? कोई नहीं जानता लेकिन चाइनीज वायरस की वजह से आज पूरी दुनिया त्रस्त है और फिलहाल तो कोई रास्ता दिखाई नहीं दे रहा है. चीन की ऐसी करतूत पहली बार सामने नहीं आई है, उसकी नीयत ही ऐसी है.

इसे भी पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग के नये नियम, रिसर्च में अहम बातें आई सामने: जरूरी जानकारी

इसे भी पढ़ें: मौलाना साद को क्राइम ब्रांच के इन 26 सवालों का करना है सामना!