आखिर किस श्राप के कारण महादेव को काटना पड़ा अपने पुत्र का मस्तक, जानिए कथा

एक बार महादेव ने क्रोध में सूर्यदेव पर प्रहार कर दिया था. इससे क्रोधित कश्यप ऋषि ने उन्हें भयानक श्राप दिया था. जानिए क्या थी उस श्राप की कथा

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 19, 2020, 06:06 AM IST
  • ब्रह्मवैवर्तपुराण में आती है यह दिव्य कथा
  • श्रीहरि ने नारद को बताया था घटना का रहस्य
आखिर किस श्राप के कारण महादेव को काटना पड़ा अपने पुत्र का मस्तक, जानिए कथा

नई दिल्लीः यह  कथा तो विदित ही है कि महादेव भोलेनाथ ने अपने पुत्र गणेश का मस्तक काट दिया था. माता पार्वती की आज्ञा का पालन करते हुए विनायक बालक ने पिता शिव शंकर को गुफा में प्रवेश नहीं करने दिया और उनसे युद्ध कर लिया.

इसके परिणाम स्वरूप भगवान भोलेनाथ को त्रिशूल से बालगणेश का सिर काटकर वहां हाथी का मस्तक लगाना पड़ा. लेकिन भगवान शिव को ऐसा क्यों करना पड़ा, यहा कथा बहुत कम लोग ही जानते हैं. 

दरअसल, इस घटना के पीछे छिपा था एक श्राप, जो महादेव को ऋषि कश्यप ने दिया था. 

जानिए, ब्रह्मवैवर्त पुराण की कथा
ब्रह्मवैवर्तपुराण के अनुसार एक बार नारद जी बड़ी ही जिज्ञासु अवस्था में श्रीहरि नारायण के पास पहुंचे और विनीत स्वर में बोले, हे प्रभु, वैसे तो आप मेरी मनस्थिति समझ ही चुके हैं,

फिर भी मैं आप से ये जानना चाहता हूं कि जो भगवान शंकर पीड़ाहारी हैं, संसार के कष्टों को दूर करने वाले हैं, उन्होंने क्यों अपने पुत्र गणेश जी की के मस्तक को काट दिया. 

श्रीहरि ने सुनाया वृ़त्तांत
इस पर श्रीहरि विष्णु ने कहा, सुनो नारद. तुम्हें इसके लिए एक प्राचीन कथा सुनाता हूं. महादेव के दो भक्त थे. माली और सुमाली. उनका किसी व्याधि को लेकर सूर्यदेव से युद्ध हो गया. माली और सुमाली पर सूर्यदेव ने अपनी तेज शक्ति का प्रयोग कर दिया. उनकी दारुण पुकार सुनकर क्रोधित महादेव ने सूर्य देव पर शूल का प्रहार कर दिया. 

यह भी पढ़िएः Kharmas 2020 हो गया शुरू, जानिए क्यों लगा मांगलिक कार्यों पर Ban

महादेव ने किया सूर्य पर प्रहार
त्रिशूल की चोट से सूर्य की चेतना नष्ट हो गई. वह अपने रथ से नीचे गिर पड़ा. जब कश्यपजी ने देखा कि  मेरा पुत्र मृत अवस्था में हैं तो वह विलाप करने लगे.  उस समय सारे देवताओं में हाहाकार मच गया. संसार में अंधकार छा गया. तब ब्रह्मा के पौत्र तपस्वी कश्यप जी ने शिव जी को शाप दिया. 

वे बोले जैसा आज तुम्हारे प्रहार के कारण मेरे पुत्र की अवस्था हुई, आपको एक दिन स्वयं अपने पुत्र पर त्रिशूल का प्रहार करना होगा.  आपके पुत्र का मस्तक कट जाएगा. 

इसलिए कटा बालगणेश का मस्तक
यह सुनकर भोलेनाथ का क्रोध शांत हो गया. उन्होंने सूर्यदेव की चेतना लौटा दी. इसके बाद ऋषि कश्यप अवाक रह गए और क्षमायाचना करने लगे. जब सूर्यदेव को कश्यप जी के शाप के बारे में पता चला तो उन्होंने सभी का त्याग करने का निर्णय लिया.

यह सुनकर देवताओं की प्रेरणा से भगवान ब्रह्मा सूर्य के पास पहुंचे और उन्हें उनके काम पर नियुक्त किया. बाद में जैसा की ऋषि कश्यप का शाप था, गणपति बालक के विवाद से वैसी ही स्थिति बन गई और महादेव को अपने पुत्र का मस्तक काटना पड़ा. 

यह भी पढ़िएः मुर्गे पर सवार बहुचरा माता, जिनकी उपासना से होती है संतान प्राप्ति

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐप. जो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा...

नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-
Android Link -

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़