कड़ी मेहनत कर रहे हैं और नहीं मिल रहा है फल, कहीं ये वजह तो नहीं

सीधी भाषा में समझें तो जब बृहस्पति सूर्य के समीप आ जाते हैं तो इस स्थिति को ही बृहस्पति का अस्त होना कहते हैं. बृहस्पति के अस्त होने के कारण शुभ कार्यों का परिणाम मिलने में देरी होती है.  

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jan 22, 2021, 06:00 AM IST
  • शनि के अस्त होने के बाद बृहस्पति भी हो चुके हैं अस्त
  • नहीं हो रहे हैं मांगलिक कार्य, राशियों पर भी पड़ रहा असर
कड़ी मेहनत कर रहे हैं और नहीं मिल रहा है फल, कहीं ये वजह तो नहीं

नई दिल्लीः New Year 2021 में ग्रहों की स्थितियां बदलकर विचित्र परिस्थितियां बना रही हैं. साल के पहले ही महीने में ऐसा हुआ है कि शनि ग्रह तो पहले ही अस्त हो चुके हैं और इसके बाद बृहस्पति भी अस्त हो गए हैं. सनातनी मान्यता के अनुसार बृहस्पति देवताओं के गुरु हैं और गुरु का प्रभाव तो सभी के जीवन पर पड़ता है. ऐसे में बृहस्पति ग्रह के अस्त होने के कारण शुभ प्रभाव में कमी होगी. शनि अस्त होने के तुरंत बाद देशभर में कौवों समेत कई पक्षियों की मौत हुई थी.  अब बृहस्पति के अस्त होने के बाद मकर संक्रांति के बाद से जो शुभ कार्य शुरू हो जाते थे, वे नहीं हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें- Haridwar Mahakumbh 2021: ऐसा क्या हुआ कि मथना पड़ गया समुद्र

ज्योतिषीय गणना के अनुसार 15 जनवरी 2021 दिन शुक्रवार को बृहस्पति अस्त हो गए हैं. अब बृहस्पति अस्त की समाप्ति मकर राशि में 12 फरवरी 12, 2021 दिन शुक्रवार को 12:14:39 बजे होगी.  बृहस्पति के अस्त होने के कारण होता यह है कि हम जो भी शुभ कार्य कर रहे होते हैं, उसका परिणाम नहीं निकलता है. इसलिए जब तक बृहस्पति अस्त रहेंगे मांगलिक कार्यक्रम निषेध रहेंगे. यही वजह है कि मकर संक्रांति के बाद जो विवाह योग व मुहूर्त आदि बनते थे 2021 में इनका लोप रहेगा. बृहस्पति के अस्त होने का प्रभाव राशियों पर भी पड़ता है.

ये भी पढ़ें- आज गुरुवार को करेंगे ये उपाय तो मिलेगा हर परेशानी का हल

क्या है बृहस्पति का अस्त होना?

सीधी भाषा में समझें तो जब बृहस्पति (Jupiter) सूर्य के समीप आ जाते हैं तो इस स्थिति को ही बृहस्पति का अस्त होना कहते हैं. ज्योतिष के महत्वपूर्ण सूर्य सिद्धांत के अनुसार बृहस्पति ग्रह के अस्त होने के लिए उसकी सूर्य से अंशात्मक दूरी 11 अंश या उससे कम होने आवश्यक है, तभी यह अस्त माना जाता है. इस समय यही स्थिति बन रही है. यही वजह कि बृहस्पति के अस्त होने के कारण शुभ कार्यों का परिणाम मिलने में भी देर होती है. अत्यधिक परिश्रम करने पर भी आशातीत सफलता नहीं मिलती है.

ये भी पढ़ें- Haridwar Mahakumbh में शाही स्नान कब, क्या है तैयारियां? जानिए पूरा Plan

अस्त बृहस्पति का राशियों पर प्रभाव

मेष - कार्यस्थल पर गलत फैसले लेने से बचें
वृष - स्टूडेंट्स के लिए अच्छे वक़्त का आरंभ
मिथुन - खर्चों पर नियंत्रण रखें अन्यथा कर्ज लेना पड़ेगा
कर्क - वाणी पर नियंत्रण रखें वार्ना परिवार में मतभेद होंगे
सिंह - नए काम के अवसर आएंगे, यात्रा लाभप्रद रहेगी
कन्या - धनलाभ में व्यावधान, ज्यादा मेहनत के बाद आंशिक लाभ

ये भी पढ़ें- Haridwar Mahakumbh 2021: जानिए वह कथा जो कुंभ के आयोजन का आधार बनी

तुला - काम की रफ्तार कम रहने से मन में असंतोष
वृश्चिक - पार्टनर से सावधान रहने की सलाह
धनु - शत्रु हावी रहेंगे, सेहत का ख्याल रखें
मकर - दांपत्य जीवन में खलल की आशंका, भाग्य का साथ कम मिलेगा
कुंभ - सेहत नरम रहेगी, शत्रु से नुकसान
मीन - आलस के कारण पराक्रम में कमी

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़