• पूरी दुनिया में कोरोना से 1097810 लोग प्रभावित, अब तक 59140 लोगों की मौत हुई, 228405 लोग रोगमुक्त हुए
  • भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 2902, इसमें से 68 लोगों की मौत हुई, 184 इलाज के बाद ठीक हुए
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा 423 मरीज, 19 लोगों की मौत हुई, 42 लोग ठीक हुए
  • तमिलनाडु में कोरोना से 411 लोग प्रभावित, 1 की मौत, 6 लोग ठीक हुए
  • केरल में अब तक 295 लोगों को हुआ कोरोना, 2 की मौत हो चुकी है, 27 इलाज के बाद ठीक हुए
  • दिल्ली में कोरोना के 386 मरीज, 6 की मौत, 8 लोग ठीक हुए, मध्य प्रदेश में कोरोना से 155 लोग संक्रमित, 9 लोगों की मौत
  • यूपी में कोरोना के 188 मरीज, 14 लोग ठीक हुए, 2 लोगों की मौत
  • राजस्थान में कोरोना के 179 मरीज, 3 लोग इलाज के बाद ठीक हुए, अभी तक एक भी मौत नहीं
  • तेलंगाना में कोरोना के 158 मरीज, 7 लोगों की मौत, मात्र 1 ही इलाज के बाद ठीक हुआ
  • कर्नाटक में कोरोना के 128 मरीज और आंध्र प्रदेश में 161 लोगों में कोरोना वायरस का असर

क्षमादान से बडा कोई यज्ञ नहीं

किसी की गलती को क्षमा कर देना एक ऐसा गुण है. जिसकी तुलना किसी और गुण से नहीं की जा सकती. ऋषि वशिष्ठ और विश्वामित्र की कथा इस बात की गवाही देती है.

क्षमादान से बडा कोई यज्ञ नहीं

क्षमः यशः क्षमा दानं क्षमः यज्ञः क्षमः दमः।
क्षमा हिंसा: क्षमा धर्मः क्षमा चेन्द्रियविग्रहः॥

अर्थात्- क्षमा ही यश है क्षमा ही यज्ञ और मनोनिग्रह है ,अहिंसा धर्म है. और इन्द्रियों का संयम क्षमा के ही स्वरूप है क्योंकि क्षमा ही दया है और क्षमा ही पुण्य है क्षमा से ही सारा जगत् टिका है अतः जो मनुष्य क्षमावान है वह देवता कहलाता है.  वही सबसे श्रेष्ठ है.

वशिष्ठ और विश्वामित्र के बीच श्रेष्ठता का निर्णय इसी गुण ने किया था.  ब्रह्मा जी विश्वामित्र के घोर तप से प्रसन्न होकर प्रकट हुए और उन्हें राजर्षि कहकर संबोधित किया.  विश्वामित्र इस वरदान से संतुष्ट न थे.  उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से जाहिर कर दिया कि ब्रह्मा उन्हें समुचित पुरस्कार नहीं दे रहे.

उनकी मनोदशा भांपकर ब्रह्माजी ने कहा कि तुम्हें बहुत ज़ल्दी आभास हो जाएगा कि आखिर मैंने ऐसा क्यों कहा? जो चीज़ तुम्हें मैं नहीं दे सकता उसे तुम उससे प्राप्त करो. जिससे द्वेष रखते हो.  विश्वामित्र के लिए यह जले पर नमक छिड़कने की बात हो गयी.  जिस वसिष्ठ से प्रतिशोध के लिए राजा से तपस्वी बने हैं उनसे वरदान लेंगे!
विश्वामित्र को लगा कि ब्रह्मा अपने पुत्र को श्रेष्ठ बताने के लिए भूमिका बांध रहे हैं.

विश्वामित्र सामान्य बात को भी आन पर ले लेते थे इसलिए राजर्षि ही रहे जबकि वशिष्ठ क्षमा की प्रतिमूर्ति थे. उन्होंने यह भुला दिया कि विश्वामित्र ही उनके पुत्र शक्ति की हत्या के लिए उत्तरदायी हैं.
वशिष्ठ अपनी पत्नी अरुंधति से विश्वामित्र के तप की प्रशंसा किया करते थे.  एक दिन क्रोध में अंधे होकर विश्वामित्र हाथ में तलवार लिए वशिष्ठ की हत्या करने चुपके से आश्रम में घुसे थे. उन्होंने वशिष्ठ और अरुंधति को बात करते देखा.

 वशिष्ठ कह रहे थे- अरुंधति! तपस्वी हो तो विश्वामित्र जैसा.

विश्वामित्र के हाथ से तलवार छूट गई. राजर्षि विश्वामित्र ब्रह्मर्षि वशिष्ठ के चरणों में लोट गए- हा देव! क्षमा! हा देव क्षमा! इसके अलावा कुछ निकलता ही न था मुख से.

 वशिष्ठ ने कहा- उठिए ब्रह्मर्षि विश्वामित्र! देवो ने पुष्पवर्षा करके वशिष्ठ का अनुमोदन कर दिया.  क्षमा गुण धारण करने के कारण वशिष्ठ वह वरदान देने में समर्थ थे जो स्वयं ब्रह्मा न दे सके. 

बड़े दिल वाला व्यक्ति आरम्भ में मात खा सकता है,  परंतु अंतिम बाज़ी उसी के हाथ होती है.

ये भी पढ़ें--'शिवोsहं', सुख पाने के लिए शिवत्व धारण करें

ये भी पढ़ें--क्षण मात्र में प्रसन्न होते हैं महादेव, जानिए पूजा का श्रेष्ठ तरीका

ये भी पढ़ें--सनातनियों के सिर पर शिखा क्यों होनी चाहिए?

ये भी पढ़ें--छह फायदे देता है एक मोर पंख