अब सामान पहुंचाने उड़ता हुआ आपके घर आएगा डिलीवरी पार्टनर, इन शहरों में मिलेगी सर्विस
Advertisement

अब सामान पहुंचाने उड़ता हुआ आपके घर आएगा डिलीवरी पार्टनर, इन शहरों में मिलेगी सर्विस

जिप इलेक्ट्रिक नाम की डिलीवरी देने वाली कंपनी अब दूर-दराज सामान पहुंचाने के लिए ड्रोन्स का इस्तेमाल करने वाली है, इसके लिए कंपनी ने TSAW से हाथ मिलाया है.

फिलहाल दिल्ली-एनसीआर, बेंगलुरु, हैदराबाद, मुंबई और पुणे जैसे शहरों में ड्रोन डिलीवरी

नई दिल्लीः जिप इलेक्ट्रिक अंतिम मील तक डिलीवरी देने वाली कंपनी है जिसने हाल में अब ड्रोन से डिलीवरी देने के लिए टीएसएडब्ल्यू ड्रोन्स से हाथ मिलाया है. अपने बयान में कंपनी ने कहा है कि पहले पड़ाव में चार शहरों में इस तरह की डिलीवरी देने के लिए 200 ड्रोन्स चलाने का प्लान बनाया गया है. पेज इलेक्ट्रिक ने फिलहाल दिल्ली-एनसीआर, बेंगलुरु, हैदराबाद, मुंबई और पुणे जैसे शहरों में ड्रोन से डिलीवरी शुरू करने की बात कही है.

  1. अब उड़ते हुए आएगी सामान की डिलीवरी
  2. जिप इलेक्ट्रिक की ड्रोन सुविधा शुरू होगी
  3. पहले इन 5 शहरों में चालू होगी सर्विस

ड्रोन्स पर स्मार्ट लॉकर लगाया जाएगा

कंपनी का कहना है कि इन ड्रोन्स पर स्मार्ट लॉकर लगाया जाएगा जिसे सिर्फ ग्राहक को मिले ओटीपी द्वारा खोला जा सकेगा, ताकि सामान गलत जगर पर डिलीवर ना हो. कंपनी के इलेक्ट्रिक स्कूटर्स की सुविधाओं के अलावा इन ड्रोन्स से मेडिकल, फूड और ग्रासरी की डिलीवरी लंबी दूरी तक ही जा सकेगी. पहाड़ी इलाके जहां कंपनी के इलेक्ट्रिक स्कूटर्स नहीं जा सकते, वहीं ये ड्रोन्स ग्राहकों तक सामान की डिलीवरी लेकर पहुंचेंगे.

ये भी पढ़ें : दुनिया की सबसे बड़ी और महंगी RV के मालिक थे विल स्मिथ, कीमत जानकर फट जाएंगी आंखें

ड्रोन्स ना सिर्फ समय बचाएंगे, बल्कि किफायती भी साबित होने वाले हैं

लंबी दूरी तक सामान पहुंचाना आज की तारीख में इतना आसान नहीं रह गया है और ट्रैफिक से लेकर भड़ वाली जगहों पर देर होती है और ड्राइवर्स ही पूरी तरह ये काम निर्भर होता है. ऐसे में ये ड्रोन्स ना सिर्फ समय बचाएंगे, बल्कि किफायती भी साबित होने वाले हैं. कंपनी ने बताया कि टीएसएडब्ल्यू ड्रोन्स एक आधुनिक प्रोग्राम पर काम करते हैं, इस प्रोग्राम का मुख्य उद्देश्य लास्ट माइल डिलीवरी की सेवा को बेहतर और सुविधाजनक बनाता है. इसके अलावा कंपनी के इलेक्ट्रिक स्कूटर भी इसी लक्ष्य को पूरा करने के लिए चलाए जा रहे हैं.

Trending news