close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मेरे भूत बहुत शालीन होते हैं, नुकसान नहीं पहुंचाते : रस्किन बांड

रस्किन बांड ने कहा मुझे एक बार नौ साल की एक लड़की ने बताया था कि उसने मेरी भूतों की कहानियां पढ़ीं, लेकिन वह डरी नहीं. 

मेरे भूत बहुत शालीन होते हैं, नुकसान नहीं पहुंचाते : रस्किन बांड
मशूहर लेखक रस्किन बांड (फाइल फोटो)

कोलकाता: मशहूर भारतीय लेखक रस्किन बांड ने शनिवार को कहा कि उन्होंने वास्तविक जीवन में एक भी भूत नहीं देखा है लेकिन उनकी मौजूदगी को महसूस कर सकते हैं.

‘घोस्ट स्टोरीज फ्रॉम द राज’, ‘डस्ट ऑन द माउंटेन्स’ और ‘ए सीजन ऑफ घोस्ट’ जैसी लोकप्रिय किताबें लिख चुके बांड ने कहा, ‘मेरे भूत बहुत शालीन हैं और नुकसान नहीं पहुंचाते. मुझे एक बार नौ साल की एक लड़की ने बताया था कि उसने मेरी भूतों की कहानियां पढ़ीं, लेकिन वह डरी नहीं. उसने तो मुझसे पूछा कि क्या मैं उन्हें और डरावना नहीं बना सकता.’ टाटा स्टील कोलकाता लिटरेरी मीट में बांड ने कहा, ‘मैंने उस लड़की से कहा कि मैं ऐसा नहीं कर सकता.’

अपना एक अनुभव साझा करते हुए 84 साल के लेखक ने कहा, ‘मैं बहुत पुरानी कॉटेज में रहता हूं और मेरे कमरे के पास एक छोटा कमरा है, जहां कोई नहीं सोता. लेकिन एक रात मैं लोगों को बात करते सुना जबकि मैं यह नहीं समझ सका कि वे क्या बातें कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा,‘मैंने उठकर लाइट जलाई और देखा कि वहां कोई नहीं था.’

उनकी इस किस्सागोई को सुनकर मौजूद लोग हंस पड़े.

(इनपुट - भाषा)