close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वित्तीय वर्ष 2019 में घट गया FDI, इस देश से आया सबसे ज्यादा निवेश

2018-19 में भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश करने वाले देशों में सिंगापुर ने मॉरीशस को पीछे छोड़ दिया. FDI में सिंगापुर की हिस्सेदारी 16.22 अरब डॉलर रही जबकि मॉरीशस से आठ अरब डॉलर आए. 

वित्तीय वर्ष 2019 में घट गया FDI, इस देश से आया सबसे ज्यादा निवेश
2018-19 वित्त वर्ष में 44.37 अरब डॉलर का विदेशी निवेश आया. (फाइल)

नई दिल्ली: देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में पिछले छह सालों में पहली बार 2018-19 में गिरावट दर्ज की गई है. दूरसंचार, फार्मा और अन्य क्षेत्रों में विदेशी निवेश में गिरावट से FDI एक प्रतिशत गिरकर 44.37 अरब डॉलर रह गया. उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) के ताजे आंकड़ों से यह जानकारी मिली. आंकड़ों के मुताबिक , इससे पहले 2017-18 में प्रत्यक्ष विदेश निवेश (FDI) के जरिए 44.85 अरब डॉलर आए थे.

 2017-18 में अब तक सबसे ज्यादा निवेश आया
इससे पहले, 2012-13 में विदेशी निवेश में गिरावट दर्ज की गई थी. इस दौरान, विदेशी निवेश 36 प्रतिशत गिरकर 22.42 अरब डॉलर रह गया था जबकि इससे पिछले साल 2011-12 में यह आंकड़ा 35.12 अरब डॉलर पर था. वित्त वर्ष 2012-13 के बाद से FDI में लगातार वृद्धि जारी है और 2017-18 में यह रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया था. आंकड़ों के मुताबिक, 2018-19 में दूरसंचार , निर्माण विकास , फार्मास्यूटिकल्स और बिजली क्षेत्रों में FDI निवेश में पिछले साल के मुकाबले काफी गिरावट आई है. 

दूरसंचार क्षेत्र में 2.67 अरब डॉलर का निवेश
दूरसंचार क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 2018-19 में 2.67 अरब डॉलर रहा, जो कि 2017-18 में 6.21 अरब डॉलर रहा था. निर्माण विकास में FDI 54 करोड़ डॉलर से घटकर 21.3 करोड़ डॉलर, फार्मा में एक अरब डॉलर से गिरकर 26.6 करोड़ डॉलर और बिजली क्षेत्र में 1.62 अरब डॉलर से घटकर 1.1 अरब डॉलर रह गया. जिन प्रमुख क्षेत्रों में FDI निवेश में वृद्धि दर्ज की गई है, उनमें सेवा क्षेत्र (9.15 अरब डॉलर), कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर एवं हार्डवेयर (6.41 अरब डॉलर), ट्रेडिंग (4.46 अरब डॉलर) और वाहन क्षेत्र (2.62 अरब डॉलर) शामिल हैं. 

सिंगापुर ने किया सबसे ज्यादा निवेश
वहीं, 2018-19 में भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश करने वाले देशों में सिंगापुर ने मॉरीशस को पीछे छोड़ दिया. FDI में सिंगापुर की हिस्सेदारी 16.22 अरब डॉलर रही जबकि मॉरीशस से आठ अरब डॉलर आए. अन्य प्रमुख देशों में जापान, नीदरलैंड, ब्रिटेन, अमेरिका, जर्मनी, साइप्रस, संयुक्त अरब अमीरात और फ्रांस शामिल हैं.