close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नीरव मोदी के बंगले को गिराने का काम जारी, ब्लास्ट से ढहायी जा रही इमारत

पीएनबी घोटाले के आरोपी और भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के अवैध बंगले को गिराने का काम शुक्रवार सुबह शुरू हो गया है. समाचार एजेंसी एएनआई की तरफ से जारी की गई तस्वीरों में ध्वस्त बंगले को देखा जा सकता है.

नीरव मोदी के बंगले को गिराने का काम जारी, ब्लास्ट से ढहायी जा रही इमारत

नई दिल्ली : पीएनबी घोटाले के आरोपी और भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के अवैध बंगले को गिराने का काम शुक्रवार सुबह शुरू हो गया है. समाचार एजेंसी एएनआई की तरफ से जारी की गई तस्वीरों में ध्वस्त बंगले को देखा जा सकता है. नीरव मोदी का यह बंगला महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में अलीबाग बीच पर स्थित है. इसे ढहाने के लिए प्रशासन ने 8 मार्च की तारीख तय की थी. इस बारे में रायगढ़ जिले के कलेक्टर डॉ. विजय सूर्यवंशी ने जानकारी दी थी. प्रशासन की तरफ से दी गई जानकारी में बताया गया था कि बंगले को खाली करने के बाद कंट्रोल ब्लास्ट के जरिये गिराया जाएगा.

पिलर में दो दिन तक विस्फोटक लगाए
स्पेशल टेक्निकल टीम पिछले दो दिन से बंगले को गिराने के लिए पिलर के बीच विस्फोटक लगाने का काम कर रही थी. अब इसके अलग-अलग हिस्सों को गिराया जा रहा है. इससे पहले नीरव के बंगले को गिराने का काम जनवरी के अंतिम सप्ताह में रोक दिया गया था. उस समय बंगले को गिराने पहुंची जेसीबी और पोकलेन मशीन इसे ढहाने में नाकामयाब रही थी.

जेसीबी और पोकलेन मशीन हो गई थी फेल
सूत्रों ने बताया था कि बंगले की मजबूती पर जेसीबी और पोकलेन मशीन कारगर साबित नहीं हुई. दूसरी तरफ बंगले को तोड़ने पहुंची टीम को यहां पर कीमती सामान भी मिला था. इस कीमती सामान को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है. अब इस सामान की नीलामी की जाएगी. कीमती सामान में झूमर और बाथरूम में लगे शावर आदि भी शामिल हैं.

नीरव मोदी का अलीबाग स्थित बंगला करीब 20 हजार वर्ग फीट में फैला है. आपको बता दें कि रायगढ़ के जिलाधिकारी विजय सूर्यवंशी ने पिछले दिनों मुंबई से 90 किलोमीटर दूर अलीबाग बीच के पास किहिम में स्थित 58 अवैध इमारतों को गिराने का आदेश दिया था. अवैध इमारतों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने में नाकामी पर बंबई हाईकोर्ट की फटकार के बाद इन बिल्डिंग को गिराने का आदेश जारी किया गया था.