close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: टीम इंडिया की नजरें इस पोजीशन पर, ताकि फाइनल का रास्ता हो जाए आसान

भारत के अलावा ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड भी आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (Cricket World Cup 2019) में इस पोजीशन पर नजरें गड़ाए हुए हैं.  

World Cup 2019: टीम इंडिया की नजरें इस पोजीशन पर, ताकि फाइनल का रास्ता हो जाए आसान
भारतीय टीम आईसीसी वर्ल्ड कप में तीन मैच जीत चुकी है. उसका एक मैच रद्द भी हो चुका है. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (Cricket World Cup 2019) आधा सफर तय कर चुका है और अब इसकी आगे की तस्वीर कुछ साफ होने लगी है. पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, दक्षिण अफ्रीका की स्थिति डांवाडोल है. इनके लिए अब यह टूर्नामेंट ‘करो या मरो’ की जंग में बदल चुका है. दूसरी ओर, भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड सेमीफाइनल की ओर बढ़ते दिख रहे हैं. इन चारों टीमों में भारत (Team India) की स्थिति सबसे बेहतर है. सही मायने में दूसरी टीमों की नजरें भले ही सेमीफाइनल पर हों, लेकिन भारत तो इससे आगे देख रहा है. उसकी नजर प्वाइंट टेबल में पहले स्थान पर है. 

इस वर्ल्ड कप में कुल 48 मैच होने हैं. इनमें से 23 मैच हो चुके हैं. 24वां मैच मंगलवार को इंग्लैंड (England) और अफगानिस्तान के बीच खेला जा रहा है. चूंकि बात प्वाइंट टेबल की हो रही है, इसलिए पहले ताजा स्थिति जान लें. अब तक के 23 मैचों के बाद ऑस्ट्रेलिया (8) पहले स्थान पर है. न्यूजीलैंड (7) और भारत (7) के बराबर अंक हैं. लेकिन बेहतर रनरेट के चलते न्यूजीलैंड दूसरे नंबर पर है. इंग्लैंड (6) चौथे नंबर पर है. उसके बाद बांग्लादेश (5) और श्रीलंका (4) हैं. 

भारत इसलिए टॉप का दावेदार
फिलहाल टॉप पोजीशन की दावेदारी में भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड हैं. ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड की टीमें एक-एक मैच हार चुकी हैं. टूर्नामेंट में सिर्फ दो टीमें ही ऐसी हैं, जो अब तक एक भी मैच नहीं हारी हैं. ये टीमें भारत और न्यूजीलैंड की हैं. भारत चार में से तीन मुकाबले जीत चुका है. वह ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान को हरा चुका है. अब उसके अभी पांच मुकाबले बाकी हैं. इनमें इंग्लैंड और वेस्टइंडीज से ही कड़े मुकाबले की उम्मीद है. उसके बाकी तीन मैच श्रीलंका, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से है. कह सकते हैं कि अगर इंग्लैंड को छोड़ दें तो बाकी हर टीम के खिलाफ भारत का पलड़ा ही भारी माना जा रहा है. 
 

p
हार्दिक पांड्या वर्ल्ड कप में बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे हैं. (फोटो: PTI) 

न्यूजीलैंड का रास्ता आसान नहीं 
कागज पर या कहें कि प्वाइंट टेबल पर न्यूजीलैंड की स्थिति भारत जैसी लग रही है. लेकिन ऐसा है नहीं. उसका रास्ता भारत से कठिन है. दरअसल, न्यूजीलैंड के शुरुआती मैच आसान थे. वह श्रीलंका, बांग्लादेश और अफगानिस्तान को हरा चुका है. लेकिन अभी उसके पांच बड़े मैच बाकी हैं, जिनमें उसे ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज से भिड़ना है. यह उम्मीद करना थोड़ा ज्यादा लग रहा है कि वह इन सभी टीमों को हराकर टेबल में टॉप करेगा. 

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड...
अब बात ऑस्ट्रेलिया (Australia) और इंग्लैंड की. ये दोनों ही टीमें एक-एक मैच हार चुकी हैं. अभी इनका आपस में भी मुकाबला बाकी है. दोनों टीमें 25 जून को भिड़ेंगी. जो टीम यह मुकाबला हारेगी, वह टॉप पोजीशन की रेस से लगभग बाहर हो जाएगी. यानी, इन दोनों टीमों में से जो टीम जीतेगी, वही पहले नंबर के लिए भारत को चुनौती देने की स्थिति में होगी. भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया को हरा चुकी है. अगर वह इंग्लैंड को भी हराती है तो उसका नंबर-1 का दावा सबसे मजबूत हो जाएगा. 

उलटफेर करता आगे बढ़ रहा है बांग्लादेश 
बांग्लादेश ने भी दो बड़े उलटफेर कर कुछ नया करने की उम्मीद जगाई है, हालांकि, उसका आगे का रास्ता कठिन नजर आ रहा है. वह अभी पांच मैचों से पांच अंक लेकर पांचवें नंबर पर है. अब उसके भारत, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से मैच हैं. उसे सेमीफाइनल की उम्मीद कायम रखने के लिए कम से कम तीन मैच जीतने होंगे. यानी, उसने जितने उलटफेर किए हैं, उतने ही और करने होंगे. 
 

o
पाकिस्तान की टीम वर्ल्ड कप में 3 मैच हार चुकी है. (फोटो: Reuters) 

पाकिस्तान, अफ्रीका, विंडीज औैर श्रीलंका... 
श्रीलंका (4 अंक), पाकिस्तान (3), वेस्टइंडीज (3) और दक्षिण अफ्रीका (3) सेमीफाइनल की रेस में काफी पिछड़ गए हैं. इन तीनों टीमों के अब चार-चार मैच बाकी हैं. अब तक की स्थिति से यह लग रहा है कि सेमीफाइनल खेलने के लिए कम से कम 11 अंक जरूरी होंगे. यानी, इनमें से जो टीम अपने सभी मैच जीतेगी, वही सेमीफाइनल में जगह बना पाएगी. 11 अंक होने पर भी नेट रनरेट की जरूरत पड़ सकती है. 

नंबर-1 और नंबर-4 का होगा मुकाबला 
बता दें सेमीफाइनल में प्वाइंट टेबल पर टॉप पर रहने वाली टीम चौथे नंबर की टीम से खेलेगी. इसी तरह दूसरे और तीसरे नंबर की टीमें दूसरे सेमीफाइनल में भिड़ेंगी. ऐसे में यह माना जा सकता है कि पहले नंबर पर रहने वाली टीम सेमीफाइनल में थोड़ी फायदे की स्थिति में रह सकती है और उसका फाइनल का रास्ता थोड़ा आसान हो सकता है.