नहीं बचा पा रही माफी, सोशल मीडिया पर बुरी तरह ट्रोल हुईं रवीना- फराह-भारती सिंह

फराह के शो में धार्मिक भावनाएं आहत करने के मामले में दूसरा मामला दर्ज हुआ है. हालिया मामला फिरोजपुर छावनी में शनिवार को दर्ज कराया गया है. इससे पहले यह मामला अमृतसर जिले के अजनाला शहर में दर्ज कराया गया था.

नहीं बचा पा रही माफी, सोशल मीडिया पर बुरी तरह ट्रोल हुईं रवीना- फराह-भारती सिंह

नई दिल्ली : बॉलीवुड एक्ट्रेस रवीना टंडन ( Raveena tandon), भारती सिंह और फराह खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. फराह के शो में धार्मिक भावनाएं आहत करने के मामले में दूसरा मामला दर्ज हुआ है. हालिया मामला फिरोजपुर छावनी में शनिवार को दर्ज कराया गया है. इससे पहले यह मामला अमृतसर जिले के अजनाला शहर में दर्ज कराया गया था.

रवीना द्वारा किसी को आहत करने को लेकर माफी मांगे जाने के बाद भी पंजाब के कई हिस्सों में शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया जा रहा है. मामले को लेकर रवीना ने ट्वीट किया कि मैंने ऐसा एक भी शब्द नहीं कहा है, जो किसी भी धर्म का अपमान करता हो. हम तीनों (फराह खान, भारती सिंह और मैं) ने कभी किसी को नाराज करने के इरादे से ऐसा नहीं किया, लेकिन अगर हमने ऐसा किया, और इससे अगर लोग आहत हुए, तो उनसे मैं तहे दिल से माफी मांगती हूं." रवीना ने संबंधित वीडियो भी शेयर किया था और बताया था कि उनका इरादा किसी को दुख पहुंचाने का नहीं था.

पंजाब के अजनाला शहर के निवासी व क्रिश्चियन फ्रंट के अध्यक्ष सोनू जफर की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि सितारों द्वारा शब्द 'हालेलुया' के उच्चारण की कोशिश के दौरान इसका मजाक बनाने से ईसाई समुदाय की भावना आहत हुई है. 'हालेलुया' एक हिब्रू शब्द है, जिसका प्रयोग ईश्वर के लिए किया जाता है।

इस मामले पर फराह खान ने भी ट्वीट किया है. फराह ने ट्वीट में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए माफी मांगी है. उन्होंने लिखा है कि मैं इस बात से दुखी हूं कि हमारे एपिसोड में अनजाने में लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची. मैं हर धर्म की इज्जत करती हूं और मेरा कभी भी किसी को दुख पहुंचाने का इरादा नहीं था. मेरी पूरी टीम यानी रवीना टंडन, भारती सिंह और मैं खुद इस बात को लेकर दुखी हैं और माफी मांगते हैं. 

बता दें कि सोशल मीडिया पर भी फराह खान, रवीना टंडन और भारती सिंह को ट्रोल किया जा रहा है. लोग उनसे सवाल कर रहे हैं कि आपको हमारे धर्म के लिए इस तरह की भाषा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. लोग पूछ रहे हैं कि जो आपने किया है उसमें क्या सिर्फ माफी से काम चल जाएगा?

यहीं नहीं लोग तीनों पर हमेशा के लिए बैन की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि उन्हें इस तरह किसी धर्म का अपमान करने का कोई हक नहीं है.