close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अमित शाह बोले,'संविधान के तहत राम मंदिर के निर्माण के लिए कटिबद्ध है BJP'

अमित शाह ने कहा कि 2014 के चुनावी घोषणा पत्र में पार्टी ने रामजन्म भूमि पर मंदिर के निर्माण के संबंध में बात कही थी . 

अमित शाह बोले,'संविधान के तहत राम मंदिर के निर्माण के लिए कटिबद्ध है BJP'
बीजेपी की राष्ट्रीय परिषद के अधिवेशन को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि 1950 से जो विचारधारा लेकर चले थे, उसी दिशा में बढ़ रहे हैं . (फोटो साभार - PTI)

नई दिल्ली: अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में कांग्रेस पर रोड़ा अटकाने का आरोप लगाते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं को आश्वस्त किया कि बीजेपी संविधान के तहत राम मंदिर के निर्माण के लिये कटिबद्ध है. बीजेपी की राष्ट्रीय परिषद के अधिवेशन को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि 1950 से जो विचारधारा लेकर चले थे, उसी दिशा में बढ़ रहे हैं .  उन्होंने कहा कि 2014 के चुनावी घोषणा पत्र में पार्टी ने रामजन्म भूमि पर मंदिर के निर्माण के संबंध में बात कही थी . 

रामलीला मैदान में देशभर से बड़ी संख्या में आए पार्टी नेता, सांसद, विधायक एवं कार्यकर्ताओं के उद्घोष के बीच शाह ने कहा कि बीजेपी चाहती है जल्द से जल्द उसी स्थान पर भव्य राम मंदिर का निर्माण हो और इसमें कोई दुविधा नहीं है.  उन्होंने कहा, 'हम प्रयास कर रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट में चल रहे केस की जल्द से जल्द सुनवाई हो . लेकिन कांग्रेस इसमें भी रोड़े अटकाने का काम कर रही है .' 

'कांग्रेस अपना रूख स्पष्ट करे'
अमित शाह ने कहा कि जब गुजरात में चुनाव हो रहे थे, उस समय कांग्रेस के कपिल सिब्बल ने किसी की ओर से उपस्थित होते हुए, इस मामले पर सुनवाई 2019 के चुनाव के बाद कराने का आग्रह किया था . ऐसे में कांग्रेस अपना रूख स्पष्ट करे. उन्होंने कहा कि बीजेपी कार्यकर्ता आश्वस्त रहे कि संविधान के तहत राम मंदिर के निर्माण के लिये पार्टी कटिबद्ध थी और कटिबद्ध है . 

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले की 29 जनवरी को सुनवाई के लिये नयी संविधान पीठ गठित करने का बृहस्पतिवार को फैसला किया क्योंकि वर्तमान पीठ के एक सदस्य न्यायमूर्ति उदय यू ललित ने इसकी सुनवाई से खुद को अलग कर लिया. 

और किन मुद्दों पर बोले अमित शाह?
बहरहाल अमित शाह ने नागरिकता संशोधन विधेयक का जिक्र करते हुए कहा कि बंटवारे के बाद हिन्दू, सिख, बौद्ध, ईसाई, पारसी शरणार्थी बनकर आए थे . वे हमारे मेहमान हैं . हम उन्हें नागरिकता देंगे, ऐसा फैसला किया गया है. बीजेपी अध्यक्ष ने अपने संबोधन में करतारपुर कारिडोर के निर्माण के सरकार के फैसले का भी जिक्र किया . 

मोदी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हम सरकार चलाने नहीं बल्कि देश को सुधारने तथा देश के अर्थ तंत्र को गति देने आए हैं . उन्होंने इस संदर्भ में महंगाई को काबू में रखने, विकास को गति देने के साथ नोटबंदी एवं भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की दिशा में उठाये गये कदमों का भी उल्लेख किया .

उन्होंने कहा कि बीजेपी देश में मजबूत सरकार चाहती है जबकि विपक्ष मजबूर सरकार चाहता है. उन्होंने दावा किया कि नरेन्द्र मोदी ही देश में मजबूत सरकार दे सकते हैं. 

राष्ट्रीय परिषद की दो दिवसीय बैठक के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज के अलावा वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी आदि नेता मौजूद रहे.

(इनपुट  - भाषा)