रोहिंग्या मुसलमानों को बांग्लादेश भेजने के आरोपों से BSF का इनकार

बांग्लादेश के एक समाचारपत्र में प्रकाशित एक खबर में कहा गया है कि बीएसएफ ब्राह्मनबाड़ी में कस्बा उपजिला के काजिआताली सीमा क्षेत्र से 31 रोहिग्याओं को उनके देश में भेजने की कोशिश कर रहा है.

रोहिंग्या मुसलमानों को बांग्लादेश भेजने के आरोपों से BSF का इनकार
(फाइल फोटो)

अगरतला: सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (बीजीबी) के उन आरोपों को खारिज किया है कि वह जानबूझ कर रोहिंग्या मुसलमानों को उनके क्षेत्र में भेज रहा है.

दरअसल बांग्लादेश के एक समाचारपत्र में शुक्रवार को प्रकाशित एक खबर में कहा गया है कि बीएसएफ ब्राह्मनबाड़ी में कस्बा उपजिला के काजिआताली सीमा क्षेत्र से 31 रोहिग्याओं को उनके देश में भेजने की कोशिश कर रहा है. यह क्षेत्र यहां से 32 किलोमीटर दूर त्रिपुरा के सिपाहीजाला जिले में कमलासागर में आता है. 

बीएसएफ ने आरोपों को बताया आधारहीन 
बीएसएफ त्रिपुरा सीमा क्षेत्र ने इन आरोपों को गलत और आधारहीन बताते हुए एक बयान जारी करके कहा कि 18 जनवरी को रात करीब साढ़े आठ बजे बीजीबी के कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल गोमाल कबीर ने बीएसएफ के कमांडेन्ट रत्नेश कुमार से बात की और उन्हें सूचित किया कि उन्होंने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर 31 रोहिंग्या मुसलमानों को हिरासत में लिया है. 

बयान के अनुसार, '25 बीजीबी के कमांडिंग ऑफीसर ने बीएसएफ कमांडेन्ट से कहा कि वे उन रोहिंग्याओं को भारत-बांग्लादेश सीमा (आईबीबी)तारबंदी के अंदर ले लें. बीजीबी के कमांडिंग ऑफीसर ने यह भी आरोप लगाया कि बीएसएफ रोहिंग्या मुसलमानों को बांग्लादेश के इलाके में भेज रहा है.' बयान में कहा गया कि बीएसएफ इन आरोपों से इनकार करता है. 

(इनपुट - भाषा)