J&K: बंदूक के लाइसेंस देने में फर्जीवाड़े का आरोप, 13 जगहों पर CBI की छापेमारी

यह छापेमारी कुपवाड़ा, बारामूला, उधमपुर, किश्तवाड़, शोपियां, राजौरी, डोडा और पुलवामा के तत्कालीन जिला कलेक्टरों व जिला मजिस्ट्रेटों के परिसरों में हुई.

J&K: बंदूक के लाइसेंस देने में फर्जीवाड़े का आरोप, 13 जगहों पर CBI की छापेमारी

नई दिल्ली: सीबीआई (CBI) ने सोमवार को अपने यहां दर्ज दो एफआईआर पर कारवाई करते हुए श्रीनगर, जम्मू, गुरूग्राम और नोएडा के 13 जगहों पर छापेमारी की. सीबीआई की ये कारवाई कुपवाड़ा, बारामुला, उधमपुर, किश्तवार, सोपियां, राजौरी, डोडा, पुलवामा के तत्कालीन डिस्ट्रिक्ट कमिश्नर और डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के ठिकानों पर हुई है. 

जानकारी के मुताबिक सीबीआई ने पिछले साल अक्टूबर में जम्मू कश्मीर के अलग-अलग डिस्ट्रिक्ट कमिश्नर साजिश के तहत से दो लाख से ज्यादा फर्जी गन लाइसेंस जारी किए गए थे. उसी मामले में आज सीबीआई ने तत्कालीन आठ अधिकारियों के ठिकानों पर रेड की है.

ये भी पढ़ें: मारुति के पूर्व CMD जगदीश खट्टर के खिलाफ 110 करोड़ की धोखाधड़ी का केस दर्ज

दरअसल सीबीआई ने अपनी जांच में पाया कि 2012-16 के दौरान, उधमपुर और कुपवाड़ा के विभिन्न जिलों के जिलाधिकारियों और कलेक्टरों ने हजारों में बंदूक लाइसेंस जारी किए. जिला अधिकारियों ने निजी स्वार्थ के लिए एक सोची समझी साजिश के तहत धोखाधड़ी से बंदूक लाइसेंस जारी किए. बड़े पैमाने पर जारी किए गए फर्जी गन लाइसेंस का मामला सामने आने के बाद ही सरकार को आर्म्स एक्ट में बदलाव करना पड़ा.

पहले आर्म्स एक्ट में जहां 2 साल की सजा थी उसे बढ़ाकर 10 साल कर दिया गया. इसके अलावा आर्म्स पर एक बारकोड की व्यवस्था शुरू की गई है ताकि गैरकानूनी हथियार के बारे में पहचान की जा सके.