CEC सुनील अरोड़ा बोले, 'चुनावी नतीजे तय करते हैं कि EVM सही है या खराब'

सुनील अरोड़ा ने कहा कि राजनीतिक दल अपनी हार-जीत में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन को फुटबॉल बना देते हैं.

CEC सुनील अरोड़ा बोले, 'चुनावी नतीजे तय करते हैं कि EVM सही है या खराब'
फोटो सौजन्य: ANI

नई दिल्ली: मुख्य निर्वाचन आयुक्त (सीईसी) सुनील अरोड़ा ने मंगलवार को विपक्ष द्वारा इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) पर उठाए जा रहे सवालों पर कहा कि चुनाव आयोग दो दशकों से ज्यादा समय से ईवीएम का प्रयोग कर रहा है. अगर हम साल 2014 से हुए अभी तक के चुनावों पर नजर डालें, तो यह ईवीएम पर उठाए जा रहे सवाल काफी चौंकाने वाले हैं. सुनील अरोड़ा ने कहा कि 2014 में लोकसभा चुनाव में एक राजनीतिक दल जीता. उसके बाद दिल्ली में विधानसभा चुनाव हुए भारी बहुमत से कोई और राजनीतिक दल जीता. फिर भी ईवीएम पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

सुनील अरोड़ा ने कहा कि राजनीतिक दल अपनी हार-जीत में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन को फुटबॉल बना देते हैं. दिल्ली के बाद भी देश में कई चुनाव हुए हैं. कर्नाटक और हाल ही में हुए 5 राज्यों में चुनावी नतीजे हर जगह अलग आए थे. उन्होंने कहा कि अगर चुनावी नतीजे राजनीतिक दलों के हिसाब से आए तो, ईवीएम अच्छी है. वहीं, अगर नतीजे उनके अनुरूप नहीं रहे तो, ईवीएम खराब है. उन्होंने कहा कि हम और आप वोट करते हैं, ईवीएम वोट नहीं देती है. उन्होंने कहा कि ईवीएम पर बार-बार बहस नहीं होनी चाहिए. 

उन्होंने कहा कि चुनावी नतीजों को जनता वोट देकर तय करती है, इसमें ईवीएम की कोई भूमिका नहीं होती है. इसलिए ईवीएम पर अब सवाल उठाना बंद कर दीजिए. उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल अपने हितों के लिए ईवीएम में गढ़बड़ी का बात उठाते हैं. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग और ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल मत खड़े कीजिए. हम अपना काम ईमानदारी से कर रहे हैं.