सीमा पर तनाव के बीच दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने की बात, भारत ने दिया चीन को करारा जवाब

 जानकारी के मुताबिक, बातचीत के दौरान वांग ने जयशंकर से कहा कि भारत और चीन को उन महत्वपूर्ण सहमतियों का पालन करना चाहिए, जिन पर दोनों देशों के नेता सहमत हुए हैं.

सीमा पर तनाव के बीच दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने की बात, भारत ने दिया चीन को करारा जवाब
चीन संग सीमा पर तनाव बरकरार.

नई दिल्ली: लद्दाख में भारत-चीन सैनिकों के बीच (India-China Border Faceoff) सोमवार को हुए हिंसक झड़प हुई. सीमा पर तनाव के बीच विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी से फोन पर बात की है. भारतीय विदेश मंत्री ने 15 जून को गलवान घाटी में हिंसक झड़प का कड़े शब्दों में विरोध जताया है.

बातचीत के दौरान भारतीय विदेश मंत्री ने चीनी विदेश मंत्री से कहा कि 6 जून को दोनों देशों के सीनियर कमांडर के बीच बातचीत हुई थी और तनाव को कम करने के लिए भी सहमति बनी थी. जो सहमति बनी थी उसको लागू करने के लिए बीते सप्ताह  लगातार ग्राउंड कमांडर मीटिंग कर रहे थे, हालात में सुधार भी हो रहा था लेकिन इसी बीच में चीन की तरफ से पीएलए ने एलएसी पर भारतीय सीमा में बने स्ट्रक्चर को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की और उसके बाद से विवाद शुरू हुआ. चीन की तरफ से यह सब कुछ सुनियोजित तरीके से किया गया. यही हिंसा का कारण बना. यथास्थिति को बनाए रखने के लिए भारत और चीन के बीच जो भी समझौते अब तक हुए हैं उनका चीन की तरफ से उल्लंघन कर इस तरह की घटना को अंजाम दिया गया.

ये भी पढ़ें: जवानों का बलिदान व्‍यर्थ नहीं जाएगा, उकसाने पर मुंहतोड़ जवाब देंगे: PM मोदी

भारतीय विदेश मंत्री ने चीन को सीधे शब्दों में यह बता दिया है कि इसका द्विपक्षीय संबंधों पर बहुत गंभीर असर पड़ेगा. बातचीत में चीन के विदेश मंत्री ने अपना पक्ष भी रखा.  चर्चा के बाद दोनों नेता इस नतीजे पर पहुंचे कि दोनों ही पक्ष स्थिति को और जिम्मेदाराना तरीके से संभालेंगे. इसके अलावा 6 जून को जो दोनों देशों के बीच सहमति बनी थी, उसको गंभीरता से लागू करेंगे. बातचीत में दोनों पक्ष इस बात पर सहमत थे कि अब आगे के लिए कोई भी पक्ष स्थिति को भड़काने वाला कदम नहीं उठाएगा.

आपको बता दें कि सोमवार रात भारत और चीनी सैनिकों के बीच गलवान घाटी में हिंसक झड़प हुई. जिसमें भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए, वहीं चीनी सैनिकों के हताहत की भी खबर है. 1975 के बाद पहली बार इस तरह की हिंसक घटना को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है.

 गलवान घाटी में भारतीय जवानों के शहीदों के मुद्दे पर पीएम मोदी ने बोलते हुए कहा कि जवानों का बलिदान व्‍यर्थ नहीं जाएगा. उकसाने पर मुंहतोड़ जवाब देंगे. भारत शांति चाहता है. हम किसी को उकसाते नहीं हैं लेकिन हमको जवाब देना आता है. 

ये भी देखें-

Thanks

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.