देश को कई चीजों की जरूरत पर हमारे पास सीमित समय है : सीजेआई

जस्टिस गोगोई ने यह टिप्पणी तब की जब एक वकील ने राफेल मामले की सुनवाई 14 मार्च तक स्थगति करने से पहले दिन के आखिर में शिक्षकों की भर्ती के मामले का उल्लेख करने की कोशिश की. 

देश को कई चीजों की जरूरत पर हमारे पास सीमित समय है : सीजेआई
प्रधान न्यायाधीश बुधवार को तीन अलग-अलग पीठों में अन्य न्यायाधीशों के साथ बैठे.

नई दिल्ली: प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगाई ने राजनीतिक रूप से संवेदनशील (अयोध्या और राफेल) मामलों की सुनवाई के बाद अदालत की कार्रवाई खत्म होने से पहले कहा कि देश को लड़ाकू विमानों की जरूरत है. देश को शिक्षकों की जरूरत है। देश को बहुत सारी चीजों की जरूरत है, लेकिन हमारे पास सीमित समय है. जस्टिस गोगोई ने यह टिप्पणी तब की जब एक वकील ने राफेल मामले की सुनवाई 14 मार्च तक स्थगति करने से पहले दिन के आखिर में शिक्षकों की भर्ती के मामले का उल्लेख करने की कोशिश की. 

प्रधान न्यायाधीश बुधवार को तीन अलग-अलग पीठों में अन्य न्यायाधीशों के साथ बैठे. जस्टिस गोगोई पहले उस पीठ के साथ बैठे जिसमें जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस एसए बोबडे शामिल थे. जस्टिस सीकरी पीठ का हिस्सा इसलिए थे क्योंकि आज उनका उच्चतम न्यायालय में अंतिम कार्य दिवस था। शीर्ष अदालत में यह प्रथा है कि सेवानिवृत्त हो रहा न्यायाधीश अंतिम दिन प्रधान न्यायाधीश की अगुवाई वाली पीठ का हिस्सा होता है.

बाद में, जस्टिस गोगोई न्यायाधीशों की नई पीठ के साथ बैठे। यह पांच न्यायाधीशों की संवैधानिक पीठ थी जिसने राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्या भूमि विवाद मामले की सुनवाई की. इसके बाद, जस्टिस गोगोई ने राजनीतिक रूप से संवेदनशील राफेल विमान मामले की सुनवाई के लिए तीन न्यायाधीशों की पीठ की अगुवाई की. इस पीठ में जस्टिस एस के कौल और न्यायामूर्ति के एम जोसेफ शामिल थे. 

(इनपुट भाषा से)