CPI नेता डी राजा बोले, 'वायनाड से राहुल गांधी की उम्मीदवारी ‘अदूरदर्शी’ फैसला'

राहुल गांधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा और कई कांग्रेसी नेताओं के साथ गुरुवार को वायनाड से नामांकन पत्र दाखिल किया.

CPI नेता डी राजा बोले, 'वायनाड से राहुल गांधी की उम्मीदवारी ‘अदूरदर्शी’ फैसला'
सीपीआई नेता डी राजा (फाइल फोटो)

वायनाड: सीपीआईनेता डी. राजा ने केरल के वायनाड लोकसभा क्षेत्र से वाम दलों के उम्मीदवार के खिलाफ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मैदान में उतरने का विरोध किया है और कहा कि यह 'अदूरदर्शी' निर्णय है. बता दें राहुल गांधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा और कई कांग्रेसी नेताओं के साथ गुरुवार को वायनाड से नामांकन पत्र दाखिल किया.

डी राजा ने कहा, 'वायनाड से राहुल गांधी को मैदान में उतारकर कांग्रेस पूरे देश को क्या संदेश देना चाहती है? एक तरह से वे गांधी को सीपीआईऔर वामदलों से लड़ने के लिए बाध्य कर उन्हें शर्मिंदा कर रहे हैं.' 

'हम अपना उम्मीदवार वापस नहीं लेंगे'
इस लोकसभा सीट से एलडीएफ उम्मीदवार सीपीआई के पी पी सुनीर हैं जबकि भाजपा नीत राजग ने तुषार वेल्लापल्ली को चुनावी मैदान में उतारा है. यह पूछने पर कि क्या वाम दल अपना उम्मीदवार वापस लेने पर विचार कर रहे हैं तो राजा ने कहा, 'बिल्कुल नहीं.' उन्होंने कहा, 'हम अपना उम्मीदवार वापस नहीं लेंगे और उनका प्रचार जोर-शोर से चल रहा है.' 

'कांग्रेस द्वारा दिए गए तर्क और कारण पूरी तरह बकवास हैं'
डी राजा ने कहा कि वाम मोर्चा लगातार कह रहा है कि सभी धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक ताकतों को लड़ना चाहिए और भाजपा तथा इसके सहयोगियों को हराना चाहिए. चुनाव प्रचार के लिए केरल आए राजा ने कहा, 'प्राथमिक उद्देश्य भाजपा और राजग गठबंधन को हराना है ताकि संविधान, लोकतंत्र और देश के धर्मनिरपेक्ष ढांचे को बचाया जा सके.' उन्होंने कहा, 'गांधी के लिए वायनाड चुनने का कांग्रेस का दृष्टिकोण क्या है? कांग्रेस द्वारा दिए गए तर्क और कारण पूरी तरह बकवास हैं.'