close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली: गरीब घर की बेटी ने किया देश का नाम रोशन, थाईलैंड में जीते दो गोल्ड और एक सिल्वर

17 साल की आयशा ने एशियन कॉन्टीनेंटल रोप स्किपिंग चैंपियनशिप में दो गोल्ड और एक सिल्वर मेडल जीते हैं.

दिल्ली: गरीब घर की बेटी ने किया देश का नाम रोशन, थाईलैंड में जीते दो गोल्ड और एक सिल्वर
आयशा दिल्ली के यमुना विहार के सर्वोदय कन्या विद्यालय में 11वीं कक्षा में पढ़ाई करती है.

नई दिल्ली: दिल्ली के मुस्तफाबाद की रहने वाली 17 साल की आयशा ने एशियन कॉन्टीनेंटल रोप स्किपिंग चैंपियनशिप में दो गोल्ड और एक सिल्वर मेडल जीतकर देश का नाम रोशन कर दिया है. आयशा ने 30 सेंकड में 95 जम्प किए. आयशा के शानदार प्रदर्शन को देखकर हर कोई गर्व महसूस कर रहा है. आयशा दिल्ली के यमुना विहार के सर्वोदय कन्या विद्यालय में 11वीं कक्षा में पढ़ाई करती है.

गरीब परिवार की बेटी 17 साल की आयशा पिछले करीब 4 सालों से रोप स्किपिंग की प्रेक्टिस कर रही है और कई बार राष्ट्रीय स्तर पर आयशा ने मेडल जीते हैं. वो एक खेल फेडरेशन से जुड़ी है जहां उसे इस खेल की कोचिंग मिलती है.

आयशा के पास नहीं थे थाइलैंड जाने के पैसे 
थाइलैंड में हो रही प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए जब आयशा को ऑफर मिला तब उसके पास थाइलैंड जान के पैसे नहीं थे, लिहाजा आयशा के पिता ने कर्ज लिया और बेटी को थाइलैंड भेजा जहां उसे कामयाबी के झंडे गाड़े. आयशा के पिता शमीम कपड़ों के कटिंग मास्टर हैं और इसी से पूरे परिवार का गुज़ारा चलता है.

इस खेल में ध्यान, स्टेमिना, प्रेक्टिस की जरूरत
आयशा कहती है कि इस खेल में ध्यान, स्टेमिना और जबरदस्त प्रेक्टिस की जरूरत पड़ती है, वो इसके लिए खूब मेहनत करती है. आयशा चाहती है कि सरकार खेल में आगे बढाने के लिए उसकी मदद करे ताकि वो दुनियाभर में भारत का नाम रोशन कर सके.

daughter of the poor house has achieved a great success, two gold and silver in Thailand

आयशा के पिता शमीम का मानना उनकी बेटी मेहनती है, काबिल है, ये उसने साबित किया है, ऐसे में अब सरकार भी थोड़ी जिम्मेदारी समझे और बेटी को आगे बढ़ाने के लिए कदम उठाए.