close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ट्रैफिक पुलिस का ये हेड कॉन्सटेबल RAP सॉन्ग से लोगों को करता है जागरूक

आपको भी कभी ना कभी ट्रैफिक पुलिस ने रास्ते में जरूर रोका होगा और ट्रैफिक नियम फॉलो नहीं करने पर आपको फटकार लगाई होगी. 

ट्रैफिक पुलिस का ये हेड कॉन्सटेबल RAP सॉन्ग से लोगों को करता है जागरूक
हेड कांस्टेबल संदीप शाही ने बताया कि ट्रैफिक सुरक्षा नाम का गुल्लक उन्होंने बनाया है जिसमे वो पैसे जमा करते हैं.

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में जानलेवा साबित हो रहे सड़क हादसों की बढ़ती संख्या से बेचैन ट्रैफिक पुलिस के हेड कॉन्सटेबल ने एक अनोखा अभियान चलाया है. लोगों को सड़क पर ट्रैफिक नियम फॉलो करने के लिए ट्रैफिक पुलिस जागरुक भी करती है और चालान काटकर सबक भी सिखाती है. लेकिन, इन दिनों दिल्ली के ट्रैफिक सिग्नल पर रैप गाते दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के हेड कॉन्सटेबल संदीप शाही लोगों के बीच अपनी अलग ही पहचान बना रहे हैं. 

 

 

ट्रैफिक नियमों को फॉलो करने की जागरुकता फैलाने के लिए संदीप शाही ने एक रैप सॉन्ग बनाकर गाया है. रैप के बोल ‘हेल्मेट नहीं लगाया तो तेरा टाइम आएगा' हैं. सिर्फ यही नहीं 37 साल के हेड कॉन्सटेबल दिल्ली के लोगों को अपनी तनख्वाह के पैसों से लगातार हेलमेट बांटने का काम भी करते हैं. पिछले 4 सालों से हैड कॉन्सटेबल इस मुहिम में जुटे हुए हैं. 

आपको भी कभी ना कभी ट्रैफिक पुलिस ने रास्ते में जरूर रोका होगा और ट्रैफिक नियम फॉलो नहीं करने पर आपको फटकार लगाई होगी. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में अलग ही वाकया देखने मिल रहा है. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के कांस्टेबल संदीप शाही इन दिनों एक अनोखा उदाहरण पेश कर रहे हैं जिसे वाहन चालक भी खूब पसंद कर रहे हैं. हेड कांस्टेबल संदीप शाही को सड़क सुरक्षा के प्रति लोगों जागरूक करने के लिए महारथ हासिल है. ट्रैफिक नियम के प्रति लोगों को अवेयर करने के लिए संदीप शाही ने ‘गली ब्वॉय’ फिल्म के रैप सॉन्ग ‘अपना टाइम आएगा’ में सड़क सुरक्षा जोड़कर नया गाना बनाया है. जिसे वो दिल्ली के ट्रैफिक सिग्नल पर गाकर ट्रैफिक कंट्रोल करते है.

उनके इस रैप सॉन्ग के बोल कुछ इस तरह हैं कि अब ना हो पायेगा, कौन बोला? सड़क की, सुरक्षा की, जीवन की रक्षा की, हेल्मेट की, सीटबेल्ट की, नियम अगर अपनाएगा, जीवन खुशहाल बन जाएगा. बात मेरी मान, सुरक्षा की जुगलबंदी है. खास बात ये हैं कि उनके इस तरीके को लोग ख़ुशी-ख़ुशी फॉलो भी कर रहे हैं. संदीप शाही ने बताया कि युवा ज्यादा सड़क हादसों का शिकार होते है, ट्रैफिक नियम का पालन नही करते ऐसे में उन तक सुरक्षा का मैसेज पहुंचाने के लिए मुझे रैप सॉन्ग सही रास्ता लगा क्योंकि युवा गाने सुनना पसंद करते हैं. 

हेड कांस्टेबल संदीप शाही ने बताया कि ट्रैफिक सुरक्षा नाम का गुल्लक उन्होंने बनाया है जिसमे वो पैसे जमा करते हैं. वो अपना बर्थ डे, मैरिज एनीवर्सरी, बच्चों का बर्थ डे या कोई त्योहार नही मानते उससे बचे पैसे गुल्लक में डालते हैं और उससे लोगों को मुफ्त में हेल्मेट देते हैं. पिछले 4 सालों से हेड कॉन्स्टेबल संदीप इस मुहिम में लगे हुए हैं. सड़क हादसे में घायल व्यक्ति और उसके परिजन पर क्या बीतती है इसका एहसास संदीप को बखूबी है. 6 साल पहले संदीप की पत्नी सड़क हादसे का शिकार हुई थी. जिसमें उनके सिर और पैर में गंभीर चोट आई थीं. तभी संदीप ने तय किया कि वो अपनी जिंदगी ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरुकता फैलाने में लगाएंगे.