नेहरू के जन्मदिन नहीं, इस दिन मनाया जाए बाल दिवस; मनोज तिवारी ने लिखा PM मोदी को पत्र

अभी तक देश में पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्म दिन पर बाल दिवस मनाया जाता है.

नेहरू के जन्मदिन नहीं, इस दिन मनाया जाए बाल दिवस; मनोज तिवारी ने लिखा PM मोदी को पत्र
देश में हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (BJP) के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को पत्र लिखकर गुरु गोविंद सिंह के छोटे साहिबजादों के बलिदान दिवस को बाल दिवस (Children's Day) के रूप में मनाने की मांग की है. अभी तक देश में पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्म दिन पर बाल दिवस मनाया जाता है.

बीजेपी सांसद और प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा है, "14 नवंबर को पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिन को देश में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है, इसके पीछे अवधारणा रही है कि पंडित जवाहर लाल नेहरू को बच्चे बहुत प्रिय थे. हमारे देश में बच्चों ने अनेक बलिदान दिए हैं और उनमें सर्वोत्कृष्ट बलिदान सिखों के दशम गुरु साहिब गुरुगोविंद सिंह जी के छोटे साहिबजादों, साहिबजादा जोराबर सिंह और साहिबजादा फतेह सिंह जी ने दिया है. मेरे विचार में इन बहादुर बच्चों की शहादत की याद में उनके बलिदान दिवस को यदि बाल दिवस के रूप में मनाया जाएगा तो यह देश के सारे बच्चों के लिए प्रेरणा के स्त्रोत के रूप में काम करेगा."

मनोज तिवारी ने प्रधानमंत्री को संबोधित पत्र में आगे लिखा है, "मेरा आपसे अनुरोध है कि बहादुर बच्चों के बलिदान और साहस को ध्यान में रखते हुए उनके शहादत के दिन प्रतिवर्ष बाल दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की जाए."

14 नवंबर को बाल दिवस
पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) की जयंती के दिन देश में हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस (Children's Day) मनाया जाता है. चिड्रेन दिवस पहले संयुक्त राष्ट्र द्वारा यूनिवर्सल चिल्ड्रन-डे के साथ 20 नवंबर को मनाया गया था. लेकिन 1964 में नेहरू की मृत्यु के बाद संसद में एक प्रस्ताव पारित किया गया, जिसमें सर्वसम्मति से उनके जन्मदिन को बाल दिवस या भारत में बाल दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया.